**New post** on See photo+ page

बिहार, भारत की कला, संस्कृति और साहित्य.......Art, Culture and Literature of Bihar, India ..... E-mail: editorbejodindia@yahoo.com / अपनी सामग्री को ब्लॉग से डाउनलोड कर सुरक्षित कर लें.

# DAILY QUOTE # -"हर भले आदमी की एक रेल होती है/ जो माँ के घर तक जाती है/ सीटी बजाती हुई / धुआँ उड़ाती हुई"/ Every good man has a rail / Which goes to his mother / Blowing wistles / Making smokes [– आलोक धन्वा, विख्यात कवि की एक पूर्ण कविता / A full poem by Alok Dhanwa, Renowned poet]

यदि कोई पोस्ट नहीं दिख रहा हो तो नीचे "Current Page" पर क्लिक कीजिए. If no post is visible then click on Current page given below.

Saturday, 17 August 2019

दरभंगा के आयकर परिसर में 15.8.2019 को झंडोत्तोलन के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम

हम आगे बढ़नेवाले हैं, आगे ही बढ़ते जाएँगे

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)




इस बार स्वतंत्रता दिवस पर यानी 15.8.2019  को दरभंगा स्थित आयकर कार्यालय के प्रांगण में बिहार में हिंदी-बज्जिका के प्रसिद्ध साहित्यकार और आयकर अधिकारी भागवतशरण झा 'अनिमेष' के हाथों झंडोत्तोलन का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ. इस अवसर पर कार्यालय के अधिकारी, कर्मचारी, आयकरदाता और सामान्य नागरिक एवं बच्चे बड़ी संख्या में मौजूद थे. 

देशभक्ति के नारे लगाये जाने के बाद श्री अनिमेष ने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन और आजादी के बाद नागरिकों कर्तव्यों पा अपना व्याख्यान दिया जिसका करतल ध्वनि से स्वागत हुआ. इस अवसर पर लोगों ने देशभकित की भावना से ओतप्रोत अनेक गीत गाए.

श्री अनिमेष ने अपने स्वरचित गीत का पाठ किया जो नीचे प्रस्तुत किया जा रहा है. यह बता देना संगत होगा कि हमारे ब्लॉग के आरम्भ करने की प्रेरणा देनेवालों में श्री अनिमेष का सबसे महत्वपूर्ण स्थान रहा है और वे स्थापना काल से लेकर अब तक इसकी निगरानी समिति के मानद सदस्य हैं. ब्लॉग में अधिकांश निर्णय 21 सदस्यीय गवर्निंग बॉडी के द्वारा तय की गई नीतियों के अनुरूप लिए जाते हैं जिसमें श्री अनिमेष भी समय समय पर अपने निर्देशों और परमर्शों के जरिये ब्लॉग को सही राह दिखाते रहते हैं -

हम आगे बढ़नेवाले हैं, आगे ही बढ़ते जाएँगे
इनकम टैक्स चुकाएँगे, भारत का मान बढ़ाएँगे ।।

इधर -उधर की बातें छोड़ो, सच्चाई से मुँह मत मोड़ो
काले धन की कालकोठरी द्वार खिड़कियाँ सारे तोड़ो
नई सदी में नवल कंठ से नया तराना गाएँगे
इनकम टैक्स चुकाएँगे भारत का मान बढ़ाएँगे ।।

धरती , अम्बर अंतरिक्ष तक हमें उपस्थित रहना है
तीनों सेना लिए तिरंगा जय जय भारत कहना है
अमर शहीदों की गाथा को हम तो भूल न पाएँगे
इनकम टैक्स चुकाएँगे भारत का मान बढ़ाएँगे।।

सबल राष्ट्र की नवल कल्पना अब सच कर दिखलाना है
बाधाओं से लड़ते-लड़ते आगे बढ़ते जाना है
गाँधी नेहरू के सपनों को पूरा कर दिखलाएँगे
इनकम टैक्स चुकाएँगे भारत का मान बढ़ाएँगे ।।

हिंदुस्तान ~ज़िंदाबाद .....२
इनकम टैक्स ~ ज़िंदाबाद
वंदे मातरम. 
जय हिन्द!
...

आलेख - बेजोड़ इंडिया ब्यूरो 
छायाचित्र - आयकर परिवार
प्रतिक्रिया हेतु ईमेल - editorbejodindia@yahoo.com
नोट- इस अवसर पर उपस्थिति लोगों के नाम और उनके द्वारा प्रस्तुत आइटम का विवरण ऊपर दिये गए ईमेल पर शीघ्र देने की कृपा की जाय ताकि शामिल किया जा सके.












No comments:

Post a Comment