**New post** on See photo+ page

बिहार, भारत की कला, संस्कृति और साहित्य.......Art, Culture and Literature of Bihar, India ..... E-mail: editorbejodindia@gmail.com / अपनी सामग्री को ब्लॉग से डाउनलोड कर सुरक्षित कर लें.

# DAILY QUOTE # -"हर भले आदमी की एक रेल होती है/ जो माँ के घर तक जाती है/ सीटी बजाती हुई / धुआँ उड़ाती हुई"/ Every good man has a rail / Which goes to his mother / Blowing wistles / Making smokes [– आलोक धन्वा, विख्यात कवि की एक पूर्ण कविता / A full poem by Alok Dhanwa, Renowned poet]

यदि कोई पोस्ट नहीं दिख रहा हो तो ऊपर "Current Page" पर क्लिक कीजिए. If no post is visible then click on Current page given above.

Wednesday, 31 May 2017

'Platform Ki Ek Raat' (A night on the platform) - Discussion held in Patna on the book of stories authored by Hrishkesh Pathak

   Revealing stories about celebration of tragedy
(इस रिपोर्ट को हिन्दी में यहाँ पढें: http://biharidhamaka.blogspot.in/2017/05/blog-post.html)


Date 23/05/2017 Avar Abhiyanta Bhawan, Adaltganj, A number of distinguished participants expressed their views on the craft and content of the story-collection of Hrishikesh Pathak. At the beginning of the program, the author of the book read out a story in his effective tone. His emotional narration was  witnessed by keen listeners seated in every nook and corner of the room. The program was chaired by senior litterateur Bhagwati Prasad Dwivedi and was conducted by renowned literary writer Ramdas Arya alias Ghamandi Ram.

      Rakesh Priyadarshi presented his thoughts in two spells. Stating the second time, he said that he feels sort of art lacking in the book. In fact, the author is absolutely free from Machiavellian  qualities so are his stories bereft of artfulness. Senior story writer Ravi Ghosh said that in the stories of the author there is a tart satire on the society. He said that stories of the present collection must be liked by all the writers and readers of this country.  Bhagwat Sharan Jha 'Animesh' said about the book that neither the author nor his creations have any artificiality anywhere. Like the author of simple nature, his composition is similar but the message is very clear. Rajkumar Premi said that he had read the book and enjoyed its qualitativeness. Senior songwriter Vijay Gunjan said that Hrishikesh Pathak is rich in terms of intensive feelings. The content of all the stories and the way he describes it are totally different from others. His stories have been written with great concentration.

        Banke Bihari said that the story writer has written stories like a reader and not as a writer. It seems that all the events have happened with the author himself and he is just experiencing them. Hemant Dass 'Him' said the level of vividness in the stories are of such level that it could be said that these are either the personal experience of the author or the experiences he got to know from some of his very close person. The issues of the common man and their problems have been shown. Khurshid Alam said how these lines express the stark truth of the society "for whom you gave so many big sacrifices so that he may reach this height, has himself turn out a leader of sorts. This is a tragedy. No single event can be such a big tragedy as this phenomenon. After this, the well-known story writer and author of 'Janata Darbar', Shambhu P. Singh said that the story 'Platform ki ek raat' (A night on the platform)  is not just a story rather a collage of stories. He says this story has no dialogues at all. This experiment in the craft seems to be visible after a very long gap after Raja Radhika Raman Prasad era.

            Editor of 'Nai Dhara' (New Stream) Prof. Shiv Narayan said, "The story ahead of Godhara is a festival of tragedy." All the stories in the collection are fully suited to the nature of today's literature i.e. nature, compassion, justice and resistance. He raised several pertinent issues in his long though very scholarly speech, he stated that the skills in the craft of story-writing is acquired through integrating one's life fully with the pains and sufferings of the society. Oppressed class and women rights are the main points of this collection. Rajkishore Sharma read out a sher on the book presented-
"Has become a scene, queer strange 
Has become a house of pauper again
I am wandering door to door  
Have become an ocean of pain "


      The president of this meeting, Bhagwati Prasad Dwivedi, described his thoughts on a single story of the book in a very orderly manner. He specifically mentioned a story based on the strange relationship of a couple called Samir and Rukasana. When Samir with an aim to ramp up his political clout, determines to murder of a hundred of Muslims on the instance of his leader and after murdering ninety-nine, finds his beloved Ruksana as his hundredth victim. He then tried to kill her in his sheer gothicism. But just on the nick of time, Samir's mother appears in between. She saves Ruksana, bear the attack of weapon herself and dies. This example of of Hindu sacrificing her life for saving a Muslim will shake the readers from within.

     In the end, Chandra Dev Singh of the Avar Abhiyanta Parishad, thanked all the participants and the audience.

You can send your feedback about this article by e-mail. Our e-mail ID Is: hemantdas_2001 @ yahoo

   















     

Tuesday, 30 May 2017

नीरज सिंह का कविता-संग्रह 'मधुमती' (Niraj Singh's collection of Hindi poems "Madhumati')

यौवन, मादकता और प्रेम का उत्तुंग ज्वार
The Tide of Youthfulness, Inebriation and Love
(English version is presented below the Hindi text)


         नीरज सिंह की यह पहली काव्यकृति पूरी तरह से 'बच्चन' की 'मधुशाला' के रंग में डूबी हुई लगती है. यद्यपि मधु का वितरण करनेवाली मधुमती के प्रति इनकी मंत्रमुग्धता उजागर है तथापि यह पुस्तक मात्र वहीं तक सीमित नहीं बल्कि जीवन के विभिन्न आयामों को रूपायित करती दिखती है. नीरज जी का संस्कृतनिष्ठ भाषा के प्रति आग्रह प्रबल है. दो खण्डों में बँटी इस पुस्तक के पहले खण्ड में मधुशाला की तर्ज पर ढालने का प्रयत्न किया गया है जिसके शीर्षक हैं  - परिणय, स्वप्न, महफ़िल, भक्ति, जीवन-नियति, मैं चलती फिरती मधुशाला और समर्पण. दूसरे खंड में भी श्रृंगार रस ही प्रमुख है. पुस्तक की विशिष्टता है श्रृंगार का अतिरेक और उसमें यदा-कदा दर्शन की संश्लिष्टता. भाषागत अशुद्धता को दूर करने की आवश्यकता है. पुस्तक में मीना का प्रयोग मधुबाला के अर्थ में बारम्बार प्रयुक्त हुआ लगता है जबकि उसका सही अर्थ है मदिरा-पात्र, सुखद आश्चर्य यह है कई स्थान पर यह प्रयोग भी सही लगता है.  यौवन, मादकता और प्रेयसी के प्रेम में आकंठ डूबी यह कृति नवयुवकों को अधिक आकर्षित कर सकती है, ऐसा मेरा अनुमान है. अंजुमन प्रकाशन, इलाहबाद से प्रकाशित इस पुस्तक का मूल्य रु. 200/= है. 

पुस्तक की कुछ पंक्तियाँ देखने लायक हैं-

मेरा है जिस ठौर ठिकाना / वहां जुड़ेंगे टूटे दिल 
 यकीं न कर मेरी बातों पर / खुद आकर देखो महफ़िल (पृ.29)

चाँद गगन का डटा रहे / न सूरज कभी उदय हो
महफ़िल मेरी सदा रहेगी / चाहे लाख प्रलय हो (पृ.32)

समय चढ़ा तो नशा घटेगा / मैं करता इनकार नहीं 
पर ये तो जीवन-नियति है / मेरी महफ़िल की हार नहीं (पृ.81)

मैंने हाथों का हार दिया और कहा अभी लो ये माला 
मैं मृतिका मृत-पात्र नहीं, मैं चलती फिरती मधुशाला (पृ.82)

कभी प्रणय, कभी परिवर्तन,मैं दो विषयों पे बोल रहा
सृजन और संहार तटों पर बारी-बारी डोल रहा (पृ.93)

यूँ ही जलन कुछ कम नहीं दिल के तपन की
फिर भला क्यों विष-बुझे ये वाण छोड़े (पृ.103)
............................
       This first poem-book of Niraj Singh seems to be completely immersed in the color of 'Bachchan's 'Madhushala'. Although his spellbinding is exposed for Madhumati, the distributor of love and rapture, this book is not limited to just the same. It, rather actually seeks to assimilation of oneself in different dimensions of life. Insistence of Neeraj on Sanskrit words is prominent. The first section of this book is divided into two sections, in the first section of the book, the different chapter of which are - the result, the dream, the concert, the devotion, the life-destiny, I the moving pub and surrender. In the second section again, romance is the main theme. The uniqueness of the book is the plenty of love feelings and their synthesis with philosophy hither and thither. There is a need to overcome language impurity. 'Meena' has been used repeatedly in the meaning of bartender girl in the book, while it's true meaning is jar of wine. A pleasant surprise is that this experimentation in usage seems right at a number of places. My guess is that this penned down high tide of youthfulness, inebriation and love can attract more young people. The price of this book, published by Anjuman Publications, Allahabad, is Rs. 200 / =

Some lines of book are worthy to see-

 I stay on the spot where all broken hearts meet
 Don't listen to me, come to concert, have a seat (p.29)

The moon should stand in sky / And for rising, Sun may not have hopes
This musical meet will last forever / Let happen lacs of  catastrophes (p. 32)

As the time passes the inebriation subsides / I do abide
But this is the life-destiny / not the defeat of my pride (p.81)

I gave up my necklace and said now take the garland
I'm not a dead person, I am a moving pub, grand(p.88)

Sometimes love and sometimes change, I am speaking on two topics
I am swinging between Creation and destruction playing aerobics (p.93)

There is already not less heartburn, Oh! pity!
Then why did you shot arrows of toxicity (p.103)



लता सिन्हा का कविता-संग्रह 'मेरा अंतर्मन' ('My Inner Mind' Hindi Poetry-collection by Lata Sinha)

तू जीवन जीते बाँटी गई / मैं बिन जनमे ही काटी गई
 (लता सिन्हा की पुस्तक 'मेरा अन्तर्मन')
(English version of this article follows Hindi text)


        लता सिन्हा 'ज्योतिर्मय काव्यगुण से सम्पन्न कवयित्री हैं और भविष्य में आज के जीवन की जटिलताओं को और भी गहराई के साथ दर्शाती अपनी रचनाएँ लेकर आएंगी ऐसी शुभकामना है. प्रस्तुत पुस्तक 'मेरा अंतर्मन' में एकतीस कवितायेँ हैं जो भक्ति, मानवीय मूल्य, प्रकृति, श्रृंगार आदि पर हैं. कविताएँ मुख्यत: छन्दयुक्त हैं और देशभक्ति और माता के प्रति प्रेम का भाव कहीं अधिक सबल दिखता है. कवयित्री की भाषा पर पकड़ अच्छी है और तत्सम शब्दों का सुन्दर प्रयोग द्रष्टव्य है. पुस्तक में नारी विमर्श के मुद्दे स्वाभाविक रूप से मुखरित हुए हैं. समीक्षा प्रकाशन, दिल्ली/ लखनऊ से प्रकाशित इस पुस्तक का मूल्य रु. २००/= है. 

 पुस्तक की कविताओं की कुछ बानगी देखिये- 

जब झील सी बन कर शांत हुई / तब मैंने पायी गहराई (सुर-सरिता)
खो गए हैं वर्क उसके / शोहरतों के दरमयाँ (तड़पाता एहसास)
हो,जंग में गोली से होली / और तोप से होली दीवाली (रक्षक हिन्द के)
देखा, फिर से इन्कार किया / सीरत की यहाँ कीमत ही नहीं (मेरी पहचान)
पर फिर भी मैं सम्पूर्ण हूँ / मैं तो बस एक बूँद हूँ (शाश्वत बूँद)
तू जीवन जीते बाँटी गई / मैं बिन जनमे ही काटी गई (अजन्मी पुकार)
है ब्रहमपूत्र के सूत्र बँधे / कटिबन्ध बने वो बलखाए (हिन्द की गरिमा)
...................
Lata Sinha Jyotirmoyey is a poet who is full of poetic quality and will bring forth her compositions in the future with more depth presenting complexities of today's life. In the present book 'My Inner mind' there are thirty-one poems which are about devotion, human values, nature, love etc. Poems are mainly in verses and the feeling of patriotism and love for mother is much more vigorous. She has  a good hold on the language and the beautiful use of Sanskrit words is visible in her poetry. The issues about women's have naturally become prominent in the book . The price of this book, published from the Samiksha Publication, Delhi / Lucknow, is Rs. 200 / =

 Look at some of the poems of the book-

When I became calm becoming a lake / I then found the depth (River of Melody)

She has lost all her pages / While remaining in limelight (Tormenting Experiences)

Yes, Holi by bullet in the battle / And Diwali by the Holi of Cannon (Defenders of Hind)

You saw, she again denied / My progress in life has no value here (My Identity)

Still I am the whole / I am just a drop (Eternal Blob)

You have been given life to be divided / I have been cut off without taking birth (Unborn Call)

It is bound by the rope of Brahmputra / Becoming a zone it cockles (The Nation’s Dignity)


Poet- Lata Sinha







Monday, 29 May 2017

बोलै छै- अंगिका कविता -सुधीर कुमार प्रोग्रामर अंग्रेजी काव्यानुवाद के साथ (S.K. Programmer's Angika poem with poetic English translation)

Blog pageviews last count: 14687 (Check latest figure on computer or web-version of the blog)
बोलै छै  (कवि- सुधीर कुमार 'प्रोग्रामर')
They speak (Poet- Sudhir Kumar Programmer)




अनटेटलोॅ सन बात बसाहा बोलै छै।
सब केॅ आपनेॅ जात बसाहा बोलै छै।
The ox is speaking something incoherent
My features are there in everyone, inherent

जजमानोॅ के पत्ता मेॅ लड्डू पेड़ा
पंड़ित जी केॅ भात बसाहा बोलै छै।
Even the host has sweets on his plate
And for the priest, only rice is sent

उखड़ी मेॅ मुड़ी देलकै जेॅ जानी केॅ
लाजेँ बोलै झात बसाहा बोलै छै।
The person who has lent his head in mortar
Ashamed, now says it was  prank he meant

सोना केॅ मंदिर मेॅ पूजा के खातिर
लोभी जुटलै सात बसाहा बोलै छै।
For worship In the temple made of gold
Seven greedy persons came together and went

बाघ के साथेॅ बकरी के कुस्ती होतै
देखिहोॅ नौमी रात बसाहा बोलै छै।
A fight will be held of tiger with goat
You will behold it sure, two days after seventh.

.........................
Original Poem by Sudhir Kumar Programmer
Poetic translation by Hemant Das 'Him'
Send your response to hemantdas_2001@yahoo.com


Sunday, 28 May 2017

'पालतू कुत्ता'- राकेश प्रियदर्शी की मगही कविता अंग्रेजी अनुवाद के साथ (Magahi poem of Rakesh Priyadarshi with English translation

Blog pageviews last count: 14427 (Check the latest figure on computer or web-version of blog website on your mobile)
पालतू कुत्ता  
(राकेश प्रियदर्शी की मगही कविता)

Pet Dog- Magahi poem by Rakesh Priyadarshi with English translation 
Poet- Rakesh Priyadarshi


[ पालतू कुत्ते के बहाने इस सिद्धस्त कवि ने सामाजिक हाशिये पर जी रहे वंचित लोगों की स्थिति का अत्यन्त सजीव वर्णन किया है. 
In the name of Pet Dogs, this adept poet has expressed the conditions of deprived class of people suffering from social marginalization.]



कुर्सी सूंघs हे पालतू कुत्ता,
पर न कुर्सी के खेल में शामिल होवS हे ,
न कभी कुर्सी पर बैठs हे I
बस खाली कुर्सी के इशारा पर
पोछी हिला के नाचs हे पालतू कुत्ता
पालतू कुत्ता मालिक से गद्दारी कभी न कर हे I

A pet dog sniffs around a chair
But it neither participates in the game of chair
Nor does it ever sit on the chair
Only, on the instances of the chair
It dances swaying its tails
A pet dog never betrays with its master.


चाहे गली के होवे चाहे घर के,
इया देस के सीमा रेखा के,
वफादार सेवक, सजग चैकीदार
आउ सच्चा सिपाही होवs हे पालतू कुत्ता I

Either it belongs to street or to a house
Or to the border of a country,
Loyal servant, alert watcher
And true soldier, it happens to be

कुत्ता के जनम कूड़ा कचड़ा पर होवs हे
कुत्ता पानी से जादे आँसू पीयs हे,
रोटी से जादे जखम खाहे
कइसन हड्डी के नाम हे खुशी,
न जानs हे कुत्ता I

Dog takes birth on a garbage dump
Dog drinks more of tears than water
It eats more of own wounds than breads
Which kind of bone is called happiness
It never knows.

पालतू कुत्ता पैर से न
पेट से दउड़s हे,
चाहे भारत के होवे चाहे पाकिस्तान के,
चाहे नेपाल के होवे चाहे अफगानिस्तान के,
मालिक के आँख के दिशा के तरफ
जान दे देहे पालतू कुत्ता I

The pet dog runs not with feet
But with its belly
Either it may be from India or Pakistan
Either it may be from Nepal or Afganistan
It does sacrifice it's life
In the direction of master's eyes

ई कलियुग में
आदमी से जादे कुत्ता हे बिस्वासी
कुत्ता हमेशा अतीत के बिछौना पर
वर्तमान के चादर ओढ़ के सूतs हे
सपना में भविष्य के रोटी देखs हे कुत्ता I

In this 'kaligyuga' (bad time)
Dog can be trusted more than humans
Dog always sleeps covering itself with present
On the bed of past
In it's dream, dog watches bread of future


अतीत के दास हल कुत्ता,
त भविष्य के इतिहास भी हे कुत्ता
भूकम्प से मालिक के बचा लेहे कुत्ता
काहे कि सूघे में माहिर होव हे कुत्ता I
जेतने सूंघs हे ओतने जागs हे
आउ जेतने जागs हे ओतने जगावs हे I

If dog was the slave of the past
Then it is also the history of the future
Dog saves it's master from earthquake
Because it is expert in smelling
The more it smells the more it awakes
The more it awakes the more it awakens.





कवि- परिचय: राकेश प्रियदर्शी एक परिपक्व और वरीय कवि हैं जिन्होंने हिन्दी के अलावे मगही में उत्कृष्ट कवितायेँ लिखीं हैं. उनका रचनाकर्म 1990 के आसपास आरम्भ हुआ और तब से वे लगातार काव्य कर्म में जुड़े हैं. उनके कई कविता-संग्रह छप चुके हैं. उनकी मगही कवितायेँ बिहार के उच्चतर माध्यमिक स्तर में पढाई जाती हैं. राकेश प्रियदर्शी एक कुशल रेखा-चित्रकार भी हैं. वर्तमान में वे बिहार विधान परिषद में सरकारी सेवा में कार्यरत हैं. 
Introduction of the poet: Rakesh Priyadarshi a mature and senior poet in Magahi and Hindi. He has been writing poems since 1990s. A number of books have been published authored by him. Some of his poems in Magahi are part of the curriculum of  Hingher secondary level in Bihar. Rakesh Priyadarshi is also a skilled drawing-artist. At present,  he is a government employee in Bihar Vidhan Parishad.













Contact no. of some Magahi poets-1

Contact no. of some Magahi poets-2

Saturday, 27 May 2017

'प्लेटफॉर्म की एक रात'- हृषीकेश पाठक के कहानी-संग्रह पर चर्चा 23.5.2017 को पटना में संपन्न


Blog  pageview last count: 14352 (Check the latest figure on computer or web version of the site)
 त्रासदी के उत्सव का पर्दाफाश करती कहानियाँ 
(Read this article in English at  http://biharidhamaka.blogspot.in/2017/05/revealing-stories-of-celebration-of.html
   दिनांक 23.5.2017 को अवर अभियन्ता भवन, अदालतगंज,पटना में हृषीकेश पाठक रचित कहानी-संग्रह 'प्लेटफॉर्म की एक रात' की कहानियों के शिल्प और कथ्य पर अनेक वरिष्ठ साहित्यकारों ने अपने विचार प्रकट किये. कार्यक्रम के आरम्भ में पुस्तक के लेखक ने एक कहानी का अपने प्रभावकारी स्वर में पाठ किया. उनके भावपूर्ण कथा-वाचन को सभी श्रोतागण पूरी तरह से भाव-विभोर होकर सुनते रहे. कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार भगवती प्रसाद द्विवेदी ने की और संचालन किया प्रसिद्ध साहित्यकार रामदास आर्य उर्फ घमंडी राम ने. 

     राकेश प्रियदर्शी  ने अपने विचार दो खेप में प्रकट किये. दूसरी बार में उन्होंने कहा कि पुस्तक में उन्हें कला की कुछ कमी लगती है. दरअसल लेखक बिलकुल छद्म-रहित हैं इसलिए पूरी तरह से सपाट तरीके से बिना कारीगरी दिखाए कहानी कहते जा रहे हैं. वरिष्ठ कथाकार रवि घोष ने कहा कि लेखक की कहानियों में समाज पर तीखा व्यंग्य है. उन्होंने कहा कि बिहार के सभी कथाकारों को प्रस्तुत संग्रह की कहानियाँ अवश्य पसंद आएंगी. भागवत शरण झा 'अनिमेष' ने पुस्तक के बारे में कहा कि न तो लेखक में और न ही उसकी रचना में कहीं भी कोई बनावटीपन दिखता है. जैसे सरल स्वाभाव के लेखक हैं वैसी ही उनकी रचना लेकिन सन्देश बहुत स्पष्ट है.  राजकुमार प्रेमी ने कहा कि उन्होंने पुस्तक पढ़ी है और उन्हें उसका स्तर बहुत अच्छा लगा. वरिष्ठ गीतकार विजय गुंजन ने कहा कि हृषीकेश पाठक घनीभूत भावों के धनी हैं. उनका कथ्य और बयान करने का अंदाज औरों से बिल्कुल अलग है. उनकी कहानियाँ बहुत ही तन्मयता से लिखी गई है. 

        बाँके बिहारी ने  कहा कहानीकार ने लेखक की तरह नहीं बल्कि पाठक की तरह कहानियों को लिखा है. लगता है सारी घटनाएँ लेखक के आस-पास की हैं और वे उसको अनुभव कर रहे हैं. हेमन्त दास 'हिम' ने कहा कि कहानियों में ऐसी सजीवता है कि यह कहा जा सकता है कि या तो ये लेखक के निजी अनुभव हैं अथवा उनके किसी बहुत ही करीबी व्यक्ति के अनुभव हैं. बिल्कुल आम जन की बातें और उनकी समस्याओं को दिखाया गया है. खुर्शीद आलम ने एक कहानी का उल्लेख करते हुए कहा कि ये पंक्तियाँ कितनी गहरी सच्चाई को बयाँ कर जाती है- "जिसे  आपने  कुर्बानियाँ  देकर वहां  पहुंचाया  वह  वहाँ  जाकर  स्वयं  नेता  बन  जाता है. यह  एक  त्रासदी है. यह  विडंबना  अपने  आप  में  इतनी बड़ी  त्रासदी है कि  इतनी  बड़ी  त्रासदी  कोई घटना नहीं  हो  सकती.  इसके  उपरान्त प्रसिद्द  कथाकार और 'जनता दरबार'  के लेखक  शंभू पी. सिंह ने कहा कि 'प्लेटफोर्म की एक  रात'  कहानी कोई कहानी मात्र नहीं बल्कि कहानियों^का कोलाज है. उन्होंने कथा-शिल्प पर कहते हुए कहा कि इस कहानी में संवाद नहीं के बराबर हैं. मानो राजा राधिका रमण प्रसाद के  बाद कुछ वैसा ही प्रयोग हुआ है.  

     'नई धारा' के सम्पादक प्रो. शिव नारायण ने कहा 'गोधरा से आगे' कहानी त्रासदी का  उत्सव है. संग्रह की समस्त कहानियाँ आज के साहित्य के स्वभाव यानी स्वभाव, करुणा, न्याय और प्रतिरोध के तर्ज पर हैं. उन्होंने अपने लम्बे किन्तु अत्यन्त ज्ञानप्रद भाषण में अनेक  अर्वाचीन मुद्दे उठाये, उन्होंने बताया कि कथाशिप का कौशल समाज के दुःख-दर्द का हिस्सा बना कर जीने से आtता है.  प्रसिद्ध गीतकार विजय गुंजन के कहा कि संवेदना के स्तर पर कहानी बहुत अच्छी है और गद्य बहुत ही सहज है. दलित विमर्श और स्त्री विमार्श इस संग्रह के मुख्य विन्दु हैं. राजकिशोर शर्मा ने प्रस्तुत पुस्तक के सम्बन्ध में कुछ शेर पढ़े-
अजब सा मंजर हो गया हूँ  / किसी कंगाल का घर हो गया हूँ
फिर रहा दर-बदर मैं / दर्द का समंदर हो गया हूँ"

      कार्यक्रम के अध्यक्ष भगवती प्रसाद द्विवेदी ने पुस्तक की एक-एक कहानी पर अपने विचारों को बड़े ही क्रमबद्ध ढंग से ब्यक्त किये. जिसकी छायाप्रति इस लेख के साथ प्रस्तुत है. उन्होंने एक कहानी का विशेष रूप से जिक्र किया जो समीर और रुकसाना नामक जोड़े के विचित्र सम्बन्ध  पर आधारित हैं. जब समीर एक नेता के प्रलोभन में आकर सौ मुस्लिमों की ह्त्या करने का निश्चय कर लेता है और  निन्नान्वे की  ह्त्या करने के बाद सौवें के रूप में रुकसाना को पाता है तो अपने वहशीपन में उसे भी मारने की कोशिश करता है लेकिन इसी बीच समीर की  माँ\बीच में आकर उसे बचा लेती है और खुद मर जाती है. एक मुस्लिम की खातिर एक हिन्दू का अपनी जान दे देने की यह मिसाल पाठकों को अन्दर से झकझोड़ जाती है.

     अंत में अवर अभियन्ता संघ के चन्द्र देव सिंह ने.भाग लेने वाले सभी साहित्यकारों और श्रोताओं के प्रति धन्यवाद ज्ञापन किया. 
इस आलेख के बारे में अपनी प्रतिक्रया आप ई-मेल से भेज सकते हैं. हमारा ई-मेल आई.डी. है: hemantdas_2001@yahoo.com





























Friday, 26 May 2017

Bhartiya Yuva Sahityakar Parishad, Patna conducts a poetic assembly on 21.5.2017

A little stick of matchbox removes darkness of whole community
(इस लेख के हिन्दी संस्करण का लिंक: http://biharidhamaka.blogspot.in/2017/05/2152017.html)

On 21.5.2017 under the aegis of Bhartiya Yuva Sahityakar Parishad (Indian Youth Literary Council, Patna), a poet-seminar was held in Ramvriksha Benipuri Hindi Library of Bihar Railway Station, in which many dignitaries participated. Among the participating poets, Bhagwati Prasad Dwivedi, Siddheshwar Prasad, Sharad Ranjan Sharad, Shreekant Vyas, Hemant 'Him' and poetess Lata Prashar were prominent.

        Shrikant Vyas, Editor of the 'Mukt Falak' (free sky) monthly magazine, had some of his ghazals, some of whom were lions-
"Getting love the stones also have begun to melting
The rainbow
Look at the strange crush in the world
For the sake of lovers, see how daggers are in action "

       Siddheshwar Prasad has always been in the national level top magazines for decades through his artworks. Being active through 'Awasar Prakashan' (Opportunity Publication) he is also a good poet. Some selected lines of their poems are as follows-
"Unable to lessen it by
Even a minuscule amount
The bite of sin is as it is
Till the last breath" (1)

"Hold hold!
Your sweet poetry!
Lest someone might grab it
From the tip of your pen "(2)

        The only poetess in attendance, Lata Prashar, also recited her poems about the country and society. Some words of the poem 'Grammar of politics' were as follows-
"Know well your leader
Indulged in giving knowledge to all
Some of whom talk about caste
And some are bugged by individualism"
        Poetess read a satirical poem in which satire characters were used while using idioms. See some
"Not knowing something and blaming others
My residence is abroad
Your own hand is Juggernaut
The rest of the world are orphans "

      Poet Hemant 'Him' read a ghazal (poem) and deepened the color of the sensitivity on the floor, the glimpse of which is-
"See, how I gained peace by turning into stone
You too should keep your feelings restrained
Now I am too afraid to fly, you keep my sky
Just give me a little bit of ground to stand upon"
     Then on demand of listeners, 'Him' read a free-style poem, entitled 'Antarim' (interim). Defining the modern life-philosophy of the masses in its final lines, he said,
"Really!
do not you think
That
The whole life
Is just an interim arrangement?"

       Renowned Ghazal writer and poet Sharad Ranjan 'Sharad' presented some of his forceful ghazals -
"Time! Let them rise a little more
I have to see them from my place
Look it by the eyes of a child
Look the life also in this manner "
       Later on, Sharad Ranjan also read some free-style poems, one of which was 'News Game'. His last lines were:
He were as if asking me-
After so many years of practice
Whether you are able to 
Play with the news like us? "

      Bhagwati Prasad Dwivedi while fulfilling the presidential responsibility, made a short comment on poetry-texts recited by all the poets and finally read out his poems. A few lines of poetry highlighting the gap between upper and lower economic classes were as follows-
"You are the lord of 
The height touching the sky
Larger than the country and the world
You are renowned
Illuminating lights
Pearl seeds
We are inferior people. "
         There was a few pieces of Shri Dwivedi's other influential poem-
"One stick of the matchbox
creates huge amount of fire
Similarly with your bright efforts
The lamps of knowledge are illuminated
Inside and outside of the house"

      This program was chaired by famous story writer and poet Bhagwati Prasad Dwivedi. On the conclusion of this meeting conducted by Siddheshwar Prasad, Hemant 'Him' offered vote of thanks.
  

Wednesday, 24 May 2017

राकेश प्रियदर्शी का हिन्दी और मगही काव्य-पाठ दिनांक 20.5.2017 को पटना में सम्पन्न

पालतू कुत्ता पैर से नs पेट से दउड़s हे
आलेख - नरेन्द्र कुमार

      दिनांक 20.05.2017 शनिवार, शाम 5 बजे। पटना में सीजन का सबसे गर्म दिनतापमान 42.2℃ था। ऐसी गर्मियों में जब महा जनकवि बिना वातानुकूलित हॉल के किसी भी गोष्ठी का निमंत्रण स्वीकार नहीं करते, हमलोग खुले वातावरण में गाँधी मैदान की गाँधी मूर्ति के पास कवि राकेश प्रियदर्शी को सुनने के लिए उपस्थित थे। संजय कुमार कुंदन, भावना शेखर, राजकिशोर राजन, प्रत्यूष चन्द्र मिश्र, समीर परिमल, डॉ सुजीत वर्मा, रामनाथ शोधार्थी, हेमंत दास 'हिम', कुमार पंकजेश, शशांक, अमरनाथ झा एवं नरेन्द्र कुमार 'दूसरा शनिवार' की गोष्ठी में सम्मिलित हुए। भावना शेखर की उपस्थिति गोष्ठी की उपलब्धि रही। कवि राकेश प्रियदर्शी ने 'पिता का चश्मा', 'एक युग का अवसान', 'नदी', 'कागज बिनता बच्चा', 'इतिहास' (मगही एवं हिंदी), 'जहाँ प्रेम तड़प रहा है', 'लोमड़ी', 'पालतू कुत्ता' (मगही एवं हिंदी), 'मुक्तिपथ', 'मछली', 'घास और बकरी', 'साँप', 'हर्ष-विषाद' एवं 'असफ़लता' शीर्षक वाली कविताएं सुनाई।


       राकेश प्रियदर्शी को सुनना जीवन को सुनना था। कवि की सरलता एवं सहजता उनकी रचनाओं में पिरोई हुई थी, पर भाव एवं अर्थ में कई गूढ़ बातें उद्घाटित कर रही थीं। कविता-पाठ के उपरांत कुमार पंकजेश का कहना था कि कवि की रचनाएं सरल एवं सुगम हैं। इन्हें सुनने के लिए कोई माथा-पच्ची करने की जरूरत नहीं पड़ती। सुनने के उपरांत श्रोताओं के मन में अपना बिंब छोड़ जाती हैं। कविताओं में आम आदमी की तकलीफ है तथा कई कविताएं व्यंग्य शैली में लिखी गयी हैं जो सोचने पर मजबूर करती हैं। हिम दास 'हिम' का मानना था कि राकेश प्रियदर्शी की कविताएं लोकभाषा में मुखर होती हैं। पालतू कुत्ता शीर्षक वाली कविता व्यंग्यात्मक शैली में बहुत असरदार है। वे रचनाओं में मुहावरों का प्रयोग करते हैं तो कई मुहावरे गढ़ भी लेते हैं। रामनाथ शोधार्थी ने चर्चा को आगे बढ़ाते हुए कहा कि सभी कविताएं अच्छी लगीं। शब्दों का चयन एवं संयोजन बेहतरीन है तथा कविताएं अपना प्रभाव छोड़ जाती हैं।

        संजय कुमार कुंदन ने दूसरा शनिवार का हार्दिक आभार व्यक्त करते हुए कहा कि राकेश प्रियदर्शी जैसे लो-प्रोफाइल कवि को एकल-पाठ के लिए चुनना सार्थक रहा। कवि जितने सीधे एवं सरल हैं, कविताएं भी वैसी ही दिख रहीं हैं पर असीम गहराई लिए हुए है। बिंबों का अद्भुत प्रयोग उनकी कविताओं में है। समीर परिमल कविता-पाठ से सन्तुष्ट दिख रहे थे। उनका कहना था कि सहज-सुबोध कविताएं प्रभावित कर गयीं। प्रत्यूष चन्द्र मिश्र ने कहा कि इतना सहज-सरल कवि आज के साहित्यिक समाज में हाशिये पर क्यों है जबकि कवि का दो संग्रह आ चुका है। कविताएं प्रचलित फॉर्मेट में रची गयी हैं तथा लयात्मकता इनकी विशेषता है। भावना शेखर ने दूसरा शनिवार में शामिल होने पर प्रसन्नता व्यक्त की तथा कविताओं पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि सरल-सुबोध कविताएं समय के माकूल हैं तथा समाज की समस्याओं को हौले-से छू जाती हैं। इन कविताओं में तपन है। सुजीत वर्मा ने "कविता जीवन की आलोचना होती है" उद्धृत करते हुए कहा कि राकेश जी की कविताएं सीधे मन में उतरती हैं।

         नरेन्द्र कुमार ने कहा कि कवि की रचनाओं में दो तरह के भाव आये हैं। एक तरफ वे समय एवं समाज की विद्रूपता को अपने व्यंग्यात्मक लहजे में पुष्ट करते हैं, वहीं प्रेम या अन्य संबंधों पर रची कविताएं उनकी सहज एवं घनीभूत संवेदना को पूर्णता में व्यक्त करती हैं। जहाँ तक आलोचकों का ध्यान न जाने का प्रश्न है तो आज अधिकांश रचनाकारों के अपने आलोचक हैं तो आलोचकों के अपने रचनाकार। इसमें सीधे-साधे एवं इन छद्मों से अलग रचनाकारों को हाशिये पर डाल ही दिया जाता है। आलोचकों को रचनाओं में चमत्कार दिखाना होता है। शशांक ने कहा बांग्ला एवं तमिल साहित्य में रचनाकर पाठकों से सीधे जुड़ते हैं क्योंकि वे स्थानीय भाषा का प्रयोग करते हैं। आज की कविताएं सीधे श्रोताओं तक पहुंची हैं। राजकिशोर राजन का कहना था कि राकेश प्रियदर्शी की कविताएं सहजता की साधना है और इसी कारण साहित्यिक समाज में अलक्षित रह गयी हैं।

      चर्चा के उपरांत सभी रचनाकारों ने अपनी-अपनी रचनाएं सुनाईं। उसके बात चाय एवं बतकही का एक और दौर बिस्कोमान भवन के पास।

इस आलेख के लेखक: नरेन्द्र कुमार (narendrapatna@gmail.com)

लेखक के लिंक:












कवि- राकेश प्रियदर्शी (Poet- Rakesh Priyadarshi)
Writer of this article- Narendra Kumar (नरेन्द्र कुमार)