**New post** on See photo+ page

बिहार, भारत की कला, संस्कृति और साहित्य.......Art, Culture and Literature of Bihar, India ..... E-mail: editorbejodindia@yahoo.com / अपनी सामग्री को ब्लॉग से डाउनलोड कर सुरक्षित कर लें.

# DAILY QUOTE # -"हर भले आदमी की एक रेल होती है/ जो माँ के घर तक जाती है/ सीटी बजाती हुई / धुआँ उड़ाती हुई"/ Every good man has a rail / Which goes to his mother / Blowing wistles / Making smokes [– आलोक धन्वा, विख्यात कवि की एक पूर्ण कविता / A full poem by Alok Dhanwa, Renowned poet]

यदि कोई पोस्ट नहीं दिख रहा हो तो नीचे "Current Page" पर क्लिक कीजिए. If no post is visible then click on Current page given below.

Sunday, 15 September 2019

स्टेशन राजभाषा कार्यान्वयन समिति, राजेन्द्र नगर टर्मिनल द्वारा पटना में 14.9.2019 को आयोजित हिन्दी काव्योत्सव सम्पन्न

निहार सकूं अपने हिस्से का आकाश
"सरकार को चाहिए कि पूरी कर्मठता से यह घोषित कर दे कि भारत देश की राष्ट्रभाषा हिन्दी है"

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)



"सरकार को चाहिए कि पूरी कर्मठता से यह घोषित कर दे कि भारत देश की राष्ट्रभाषा हिन्दी है!

हिन्दी का दायरा, घट नहीं रहा, बल्कि बढ़ रहा है। जीवन और व्यावसाय के विभिन्न क्षेत्रों में, हिन्दी को प्राथमिकता देना चाहिए। 

स्टेशन राजभाषा कार्यान्वयन समिति, राजेन्द्र नगर टर्मिनल द्वारा आयोजित हिन्दी काव्योत्सव पर मंडल रेल राजभाषा अधिकारी राजमणि मिश्र ने उपरोक्त उद्गार व्यक्त किया। अध्यक्षता कर रहे वरिष्ठ साहित्यकार भगवती प्रसाद द्विवेदी ने बताया कि" हिन्दी भाषी लोग हिन्दी की उपेक्षा कर रहे हैं जिस कमजोरी का फायदा सरकार उठाती आ  रही है।" उन्होंने अपनी कविता के माध्यम से हिंदी के संबंध में कहा- 
"भाषा बहता नीर हमारी हिन्दी है 
 तहजीबी तासीर हमारी हिन्दी है।" 

रेलवे कोचिंग काम्प्लेक्स में आयोजित कवि सम्मेलन के पहले  समारोह के विशिष्ट अतिथि, वरिष्ठ साहित्यकार सिद्धेश्वर ने हिन्दी पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि - "सिर्फ हिन्दी दिवस या हिन्दी पखवाड़ा मनाकर हम हिन्दी की कैसी भलाई कर रहै हैं कि हिन्दी आज भी राजभाषा का सिंहासन पाने के लिए सरकार और देशवासियों के सामने गिड़गिड़ाने की स्थिति में है! सरकार की इच्छा शक्ति के अभाव में  हिन्दी आज भी अपनी अस्मिता की लड़ाई लड़ रही है और  अंग्रेजी की दासी बनी हुई है, जो एक आजाद देश के लिए खतरनाक स्थिति है। सरकार अगर चाहे तो देश की भाषाई सिंहासन पर से अंग्रेजी को हटाकर, हिन्दी को बैठा दे और रातों रात विश्व भर में ऐलान कर दे कि "भारत देश की  राष्ट्रभाषा' हिन्दी 'है"।

समिति के सचिव मो. नसीम अख्तर के  सशक्त संचालन में हिन्दी काव्योत्सव का आरंभ करते हुए,कहा-
"यहां फूल दामन पर खिला कहां है 
जहां देखिए, खिंजा ही खिंजा हैं 
बगावत-अदावत नफरत है हर सू
मुहब्बत का दुश्मन जालिम जहां है!"

यशस्वी शायर घनश्याम ने विशुद्ध हिन्दी गजल कही - 
"हर भाषा का हम करें, यथायोग्य सम्मान 
लेकिन हिन्दी से बने, भारत की पहचान!" 
और 
"वक्त देता है  जब दगा बिल्कुल 
टूट जाती है फिर वफा बिल्कुल!" 

वरिष्ठ शायर रमेश कंवल ने कहा-
*दूर कीजिए अधूरापन मेरा 
आज भर दीजिए, ये मन मेरा! " 

शायर सुनील कुमार ने कहा कि
"दुश्मनों को निढाल रखते हैं 
दोस्ती की मिसाल रखते हैं! "

 इसी तर्ज पर शमां कौसर शमां की गजल थी -
"सड़कों पे वो बहाने लगे हैं  मेरा लहू ऐ शमां
दहशतों में नहाई है जिंदगी!" 

हिन्दी के प्रति अपना उद्गार व्यक्त करते हुए सिद्धेश्वर ने काव्य प्रस्तुति दी -
"हिन्दी की यह दुर्दशा, अब देखी नहीं जाती 
सौतेली बनी हमारी भाषा, अब देखी नहीं जाती?" 

नई प्रतिभाएं भी, गीत - गजल लिखने या यों कहें अभ्यास करने में रुचि ले रही हैं। 
एक तरफ श्वेता मनी की रचना थी -
"वक्त उसी मोड़ पर लाया क्यों कर? 
जहां से चला, वहीं लौट कर आया क्यों कर?" 

तो दूसरी तरफ कुमारी स्मृति ने कहा-
"सौ रसों की एक रस है, तू रसों की खान हिन्दी! 
देवभूमि भारतवर्ष में, कब नहीं महान हिन्दी!?" 

अपने सुरीले स्वर में, गीतकार मधुरेश नारायण ने गीत गाए-
"चलो मिट्टी, पानी की ओर चलें 
कुछ अपनी जिद्द भी छोड़ चलें !"

सविता मिश्र माधवी ने हिंदी के प्रति अपनी उद्गार इस  प्रकार व्यक्त की -
" बूद-बूंद घट भरै, शब्द -शब्द से भाषा 
आगे बढ़ाने के लिए हिंदी है समृद्धि की भाषा!" 

वरिष्ठ साहित्यकार अरुण शाद्वल ने स्त्री विमर्श पर एक लम्बी समकालीन कविता का पाठ किया - 
"नहीं चाहिए मुझे, तुम्हारी पूजा और वो सारे आडंबर/
मैं नहीं बनना चाहती पूज्या / मैं तो बस इतनी चाहती हूं /
कि खड़ी हो सकूं तुम्हारे / कंधे से कंधा मिलाकर /
निहार सकूं अपने हिस्से का आकाश!" 

इसके बाद युवा कवि संजय कुमार संज ने अपने दार्शनिक अंदाज में यूँ काव्य पाठ किया-
"कुछ नहीं होता अमर है / शरीर भी तो होता नश्वर है
परन्तु जब तक ये भुवन है / कुछ चीजें रहती हैं जिंदा!"

इनके अतिरिक्त हिन्दी और जिंदगी से संदर्भित की कविताएं गीत और गजलों ने  महफ़िल को यादगार जश्न में बदल दिया, जिनमें प्रमुख हैं - विश्वनाथ वर्मा, सुबोध कुमार सिन्हा, लता प्रासर, प्रभास कुमार प्रभास, गुड्डू आलम आदि। 

हिन्दी काव्योत्सव का समापन रामवृक्ष बेनीपुरी हिंदी पुस्तकालय के पुस्तकाध्यक्ष अमितेश कुमार के धन्यावाद ज्ञापन से हुआ।

हिन्दी दिवस, हिन्दी सप्ताह, हिन्दी पखवाड़ा, हिन्दी माह और फिर,,, ? सारा तमाशा खत्म.? सालों भर हिन्दी को यह मान-सम्मान क्यों नहीं.? सबकुछ सही से गुजर जाने के बाद  भी, क्या यही एक सवाल मन को अशांत नहीं कर देता?
........

प्रस्तुति - सिद्धेश्वर 
छायाचित्र -  सिद्धेश्वर /नसीम अख्तर /सुनील कुमार 
प्रस्तुतकर्ता का ईमेल - sidheshwarpoet.art@gmail.com
प्रतिक्रिया हेतु ईमेल करें - editorbejodindiaEyahoo.com



Thursday, 12 September 2019

'मिथिलांगन' द्वारा महान मैथिली कवि मणिपद्म की जयंती पर 8.9.2019 को दिल्ली में सांस्कृतिक कार्यक्रम सम्पन्न

मणिपद्म के कृतित्व पर चर्चा, बैशाखनंदन नाटक का मंचन और सुंदरम का गायन

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)




सामाजिक, साहित्यिक और सांस्कृतिक संस्था 'मिथिलांगन' ने इस वर्ष मणिपद्म जयंती देवेश्वरी भवन, आनंद विहार, नज़फ़गढ़, नई दिल्ली में अत्यंत हर्षोल्लास और भव्यता के साथ मनाई.

दीप प्रज्जवलन द्वारा इस भव्य कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ किया गया. तत्पश्चात सुप्रसिद्ध संगीतकार सुन्दरम, मिथिलांगन मंचकी जानी मानी गायिका राखी के साथ मिथिलांगन के बच्चे-बच्चियों ने साथ मिलकर "जय मिथिलांगन, जय मिथिला" वृंदगान अत्यंत सुरूचिपूर्ण ढंग से गायन किया. सुंदरम और साथियों के गायन से वह स्माँ बंधा कि दर्शक वाह-वाह कर उठे.

मिथिलांगन पत्रिका के संपादक मुकेश द्वारा मणिपद्म के व्यक्तित्व और कृतित्व पर सारगर्भित चर्चा की गई.

अहि अवसर पर विख्यात पत्रकार मानवर्धन कंठ के संचालन में "आजुक परिवेश में युवा वर्गक सामाजिक, साहित्यिक आ सांस्कृतिक दायित्व" विषय पर परिचर्चा आयोजित की गई जिसमें लब्ध प्रतिष्ठित विद्वज्जन यथा नूतन कंठ, आलोक कुमार, के.के.चौधरी और रवीन्द्र कलाकार ने अपने विद्वतापूर्ण विचारों से उपस्थित श्रोता खास कर युवाओं को लाभावन्वित किया.

मिथिलांगन रंगमंच के प्रसिद्ध निर्देशक संजय चौधरी, राजेश और सुन्दरम के दमदार निर्देशन से सुसज्जित और मिथिलांगन के बाल कलाकारों विशेषकर बच्चियों के मंझे हुए अभिनय से परिपूर्ण हास्यपूर्ण और शिक्षाप्रद नाटक "बैशाखनंदन" का मंचन किया गया. संस्था के अध्यक्ष कमलेश और कार्यकारी अध्यक्ष अधीर मल्लिक द्वारा सभी कलाकारों और वक्ताओं को मिथिलांगन का स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस संपूर्ण कार्यक्रम का संचालन रविन्द्र ने अत्यंत सहजता से किया. मिथिलांगन के मीडिया प्रभारी शंभू शंकर द्वारा सम्मानीय अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया गया।

अल्पाहार के पश्वात इस भव्य कार्यक्रम की पूर्णाहुति हुई। इस संपूर्ण कार्यक्रम में कार्यकारी सचिव निर्भय कुमार की नेतृत्व क्षमता का कुशल प्रदर्शन देखा गया। सरिता, जयानंद, जितेन्द्र, संजीव, नवीन, अरविंद , आभा, अर्चना, विनीता, दयाकांत, नूतन, यश, पीयूष और मिथिलांगन के सभी कार्यकर्ता के योगदान से यह कार्यक्रम अविस्मरणीय बन गया.

इस बार के कार्यक्रम में दो उल्लेखनीय काम हुए - पर्यावरण की रक्षा को ध्यान में रखते हुए इस बार सम्मानित अतिथियों को पुष्प गुच्छ के बदले पौधा देकर सम्मानित किया गया. दूसरा, इस बार का मुख्य आकर्षण था मिथिलांगन की बेटियों का दमदार और उत्साहवर्धक प्रदर्शन। अनन्या मिश्रा, साक्षी मिश्रा, प्राची, प्रेम मिश्रा, सुप्रिया मिश्रा, शिवानी गुप्ता, पीहू और गहना ने अपने दमदार अभिनय से एक नई उम्मीद जगाई है. इस बार का समारोह पूर्ण रूप से मिथिलांगन की बेटियों के नाम रहा। इसका सारा श्रेय संजय चौधरी, सुन्दरम और राजेश कर्ण को जाता है। अंकित चौधरी भी कलाकारों में शामिल थे. 

यश और पीयूष जैसी नव पीढी जिस तरह से आगे आकर दायित्व ग्रहण कर रही है, हमें मिथिलांगन का भविष्य अत्यंत उज्जवल दिखाई देता है. मात्र जरुरत है युवा पीढी को उत्साहित और प्रोत्साहित करने की जिसमें कमी दिख रही है। 
.....

आलेख - शम्भू शंकर 
छायाचित्र - मिथिलांगन
प्रतिकिया हेतु ईमेल - editorbejodindia@yahoo.com
नोट - इस रपट में जानकारी, चित्र को जोड़ने के लिए ऊपर दिये गए ईमेल पर भेजें. 

















Friday, 30 August 2019

रा. वरिष्ठ नागरिक काव्य मंच द्वारा काव्य-मंच गोपाल सिंह नेपाली पखवारा में एक काव्य-गोष्ठी 29.8.2019 को पटना में संपन्न

हम धरती क्या आकाश बदलने वाले हैं

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)



दिनांक 29.08.2019 को राष्ट्रीय वरिष्ठ नागरिक काव्य-मंच,पटना के तत्वावधान में,कविवर गोपाल सिंह नेपाली पखवारा के अवसर पर एक काव्य-गोष्ठी का आयोजन, हास्य कवि श्री विश्वनाथ प्रसाद वर्मा के उत्तरी श्रीकृष्णापुरी,लालबहादुर शास्त्री पथ स्थित आवास में बेतिया से पधारे वरिष्ठ कवि डा.गोरख प्रसाद"मस्ताना" के सम्मान में किया गया.

आयोजन की अध्यक्षता सुप्रतिष्ठित कवि और साहित्यकार श्री भगवती प्रसाद द्विवेदी तथा संचालन सुचर्चित कवि,कथाकार, चित्रकार श्री सिद्धेश्वर ने किया. गोष्ठी के संयोजक थे वरिष्ठ गीतकार श्री मधुरेश नारायण.
सर्वप्रथम उपस्थित कवियों ने कविवर गोपाल सिंह नेपाली के चित्र पर माल्यार्पण के साथ श्रद्धा-सुमन अर्पित किया.

मुख्य अतिथि डा. गोरख प्रसाद "मस्ताना" ने नेपाली जी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर अपना विचार व्यक्त करते हुए बताया कि वे बहुमुखी काव्य-प्रतिभा के धनी थे और नेपाली जी के घर के पड़ोस में ही उनका भी आवास है. नेपाली जी के गीतों की सुगंध बेतिया की मिट्टी में रची-बसी है जिसकी वजह से वहां के अनेक गीतकारों ने ऊर्जा प्राप्त कर साहित्य में अपनी पहचान बनाई.

घनश्याम ने नेपाली जी के प्रति अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें भारत-चीन युद्ध के दौरान नेपाली जी का काव्य पाठ सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था और उनके ओजपूर्ण गीतों ने उनके मन पर गहरा प्रभाव डाला. उनके हृदय में काव्य का बीज-वपण कदाचित् उसीसमय हो गया था जो कालान्तर में अंकुरित हुआ.
उन्होंने नेपाली जी की एक रुबाई :
अफ़सोस नहीं इसका हमको, जीवन में हम कुछ कर न सके.
झोलियां किसी की भर न सके,सन्ताप किसी का हर न सके.
अपने प्रति सच्चा रहने का, जीवन भर हमने काम किया.
देखा-देखी हम जी न सके, देखा-देखी हम मर न सके.
प्रस्तुत कर उनकी स्मृति को नमन किया और बाद में अपनी ग़ज़लें सुनाईं.

कवि गोष्ठी में श्री भगवती प्रसाद द्विवेदी, डा. गोरख प्रसाद " मस्ताना",हास्य कवि विश्वनाथ प्रसाद वर्मा, मधुरेश नारायण, सिद्धेश्वर, डा.निखिलेश्वर प्रसाद वर्मा, एम.के. मधु,डा. रमाकांत पाण्डेय,शुभचन्द्र सिन्हा तथा एकलव्य कुमार ने विभिन्न विषयों की समसामयिक कविताएं सुनाईं.

अपने अध्यक्षीय संबोधन में श्री भगवती प्रसाद द्विवेदी ने नेपाली जी के व्यक्तित्व और कृतित्व के विभिन्न पक्षों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वे राष्ट्रीयता, प्रकृति-सौन्दर्य और यथार्थ परक भावों के ऐसे समर्थ गीतकार थे जो उस कालखंड में छायावाद की रहस्यात्मकता से निकल कर जन-भावना का प्रतिनिधित्व करने वाली रचनाओं का सृजन किया. यही कारण था कि उन्होंने उत्तर छायावाद काल के सर्वाधिक श्रेष्ठ और लोकप्रिय कवि के रूप में अपनी पहचान बनाई किन्तु दुर्भाग्यवश उनका साहित्य जगत में उतना मूल्यांकन नहीं हुआ जिसके वे वास्तविक हक़दार थे. 

इस क्रम में उन्होंने नेपाली जी के गीतों की कुछ प्रमुख पंक्तियों यथा " तुम कल्पना करो, नवीन कल्पना करो,मेरा धन है स्वाधीन कलम, हम धरती क्या आकाश बदलने वाले हैं/ हम तो कवि हैं, इतिहास बदलने वाले हैं" के भावार्थ प्रस्तुत करते हुए उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया तथा गोष्ठी में पढ़ी गई रचनाओं पर अपना सार्थक मन्तव्य प्रस्तुत किया. अन्त में आतिथेय श्री विश्वनाथ प्रसाद वर्मा ने धन्यवाद ज्ञापन किया.
......

आलेख - घनश्याम 
छायाचित्र - वरिष्ठ नागरिक अधिकार मंच 
प्रतिक्रिया हेतु ईमेल - editorbejodindia@yahoo.com






















Wednesday, 28 August 2019

"हिन्दी भाषा साहित्य परिषद्" खगड़िया, द्वारा "जानकी वल्लभशास्त्री स्मृति पर्व" खगडिया में 24&25 अगस्त को सम्पन्न

"जनता धरती पर बैठी है नभ में मंच खड़ा है"
जानकी बल्लल्भ शास्त्री - चेतना और दार्शनिकता का अद्भुत समन्वय

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)




खगड़िया: 24-25 अगस्त 2019 "हिन्दी भाषा साहित्य परिषद्" खगड़िया, बिहार के दो दिवसीय 17 वें महाधिवेशन "जानकी वल्लभशास्त्री स्मृति पर्व" का आग़ाज़ झंडोत्तोलन से हुआ। अध्यक्ष "रामदेव पंडित राजा" ने साहित्य पताका फहराया और सभी उपस्थित साहित्यकारों ने "जय-जय-जय साहित्य पताका" सामवेत स्वर में गाकर कार्यक्रम की शुरूआत की।

कार्यक्रम का उद्घाटन बिहार अंगिका अकादमी पटना के अध्यक्ष "डॉ० लखन लाल सिंह आरोही" ने दीप प्रज्वलित करके किया। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि खगड़िया में साहित्य की लेखन, प्रकाशन और आयोजन की त्रिवेणी बहती है। यह साहित्य का प्रयाग है। खगड़िया की आज देश में विशेष पहचान है, जिसे कैलाश झा "किंकर" एवं उनके सहयोगी हैं, विगत बीस वर्षों से अनवरत संघर्ष करते हुए खगड़िया-साहित्य को इस मुकाम तक पहुँचाया है इसकी मैं भूरी-भूरी प्रशंसा करता हूँ एवं खगड़िया की धरती को प्रणाम करता हूँ।

सरस्वती वन्दना और स्वागत गान के बाद स्वागताध्यक्ष ई० धर्मेंद्र कुमार एवं सचिव "कविता परवाना" द्वारा प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। "कैलाश झा किंकर" के सम्पादकत्व में जानकी वल्लभशास्त्री पर केन्द्रित कौशिकी के 70 वें अंक का लोकार्पण मुख्य अतिथि डॉ० संजय पंकज समेत सभी मंचस्थ अतिथियों ने किया।

डॉ० कपिलदेव महतो ने मंचसंचालन करते हुए "जानकी वल्लभशास्त्री" जी और उनके रचना संसार पर परिचर्चा के लिए विषय प्रवेश कराया। डॉ० सिद्धेश्वर काश्यप जी ने कहा कि जानकी वल्लभ शास्त्री एक स्वाभिमानी साहित्यकार थे। पद्मश्री सम्मान ठुकराने की हिम्मत सब में नहीं होती है। मानवीय स्मिता के संपोषक आचार्य "जानकी वल्लभ शास्त्री" पर हमें गर्व है। मुजफ्फरपुर से पधारे पं० "गंगा प्रसाद झा" ने कहा कि आचार्य जानकी वल्लभशास्त्री जी के विपुल साहित्य-संसार में साहित्यिक चेतना और दार्शनिकता का अद्भुत समन्वय है। डॉ० उमेश प्रसाद सिंह, प्राचार्य, "अवध बिहारी संस्कृत महाविद्यालय" रहीमपुर खगड़िया ने अपने उद्गार में कहा कि आचार्य जानकी वल्लभ शास्त्री जी के संदर्भ में रवीन्द्र नाथ ठाकुर" ने कहा था कि "जानकी वल्लभशास्त्री" आधुनिक युग के कालिदास हैं। संस्कृत के इतने बड़े उद्भट विद्वान और साहित्यकार ने निराला जी के कहने पर हिन्दी में भी रचना करने लगे। 

विकास कुमार, सुनील कुमार मिश्र एवम् मणिभूषण सिंह ने आचार्य जानकी वल्लभशास्त्री को पशु-प्रेमी और दार्शनिक कवि मानते हुए उनके गाय, कुत्ता, बिल्ली आदि के प्रेम को रेखांकित किया। डॉ० वन्दना भारती, हिन्दी अधिकारी, पूर्वोत्तर केन्द्रीय विश्वविद्यालय ने कहा कि आलोचक उन्हें कभी छायावादी कवि, कभी प्रगतिशील तो कभी श्रृंगारिक कवि मानते रहे। सच्चे अर्थों में वो साहित्य के हर विधा के आचार्य कवि थे। "मणिभूषण सिंह" ने "निराला निकेतन" की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि निराला निकेतन एक साहित्यिक तीर्थ है। जिन्होंने भी वहाँ अवगाहन किया धन्य हुआ। झारखंड से पधारे डॉ० प्रदीप प्रभात ने "आचार्य जानकी वल्लभ शास्त्री" को बेजोड़ कवि कहा। संवदिया के संपादक "मांगन मिश्र मार्तण्ड" ने आचार्य जानकी वल्लभशास्त्री जी को किसी भी वाद से ऊपर का कवि माना। उन्होंने उनकी कविता की पंक्ति को दुहराया-
जनता धरती पर बैठी है नभ में मंच खड़ा है
जो जितना है दूर मही से उतना वही बड़ा है।

मुख्य अतिथि डॉ० संजय पंकज ने आचार्य जानकी वल्लभशास्त्री से जुड़े अनन्य संस्मरण सुनाए। उन्होंने कहा कि "निराला" जी के कहने पर आचार्य जी हिन्दी में रचना करने लगे, यह बात नहीं है। बात यह है कि "निराला" जी ने हिन्दी के भविष्य के प्रति उन्हें आगाह करते हुए कहा था कि सामान्य जन तक हिन्दी में लिखी रचनाएँ ही पहुंच बना पाएगी। संस्कृत, हिन्दी और बंगला भाषा के ऐसे साहित्य-मनीषी समय और मूल्यहीनता से आहत थे। उनकी अनेक रचनाओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा-
ऊपर-ऊपर पी जाते हैं जो पीने वाले हैं
कहते ऐसे ही जीते हैं जो जीने वाले हैं।

"रवीन्द्रनाथ ठाकुर" और "जानकी वल्लभशास्त्री" के संवाद संस्मरण से श्रोतागण भी संवेदनशील हुए। इस परिचर्चा में खगड़िया से डॉ० विभा माधवी भी शामिल हुई।

अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में "रामदेव पंडित राजा" ने कहा कि आचार्य जानकी वल्लभशास्त्री जी का सिद्धांत था "जीओ और जिलाओ"। अपने सामर्थ्य के अनुसार जरूर औरों की मदद करनी चाहिए। गाएँ, कुत्ते और बिल्लियाँ उन्हें प्रिय थे। कौशिकी के आवरण चित्र से पाठक भी इसे समझ पाएँगे।

स्वागत सचिव बड़े लाल यादव ने सभी अतिथियों के प्रति आभार प्रकट करते हुए धन्यवाद ज्ञापन किया। उन्होंने कैलाश झा किंकर, रामदेव पंडित राजा और कविता परवाना के साहित्यिक संघर्षों को भी रेखांकित किया। इस अवसर पर सभी अतिथियों को "जानकी वल्लभ शास्त्री" स्मृति सम्मान से सम्मानित किया गया। सम्मान में अंगवस्त्र, सम्मान पत्र, डायरी और चाँदी की कलम से साहित्यकारों को अलंकृत करते हुए परिषद् स्वयम् सम्मानित हुई।

द्वितीय सत्र  में "कवि सम्मेलन" की अध्यक्षता प्रो० चन्द्रिका प्रसाद सिंह विभाकर ने की। इसमें राष्ट्रभक्ति पर आधारित रचनाएँ विशेष रूप से पढ़ी  गईं उद्घाटन कर्ता थे कवि घनश्याम। मुख्य अतिथि के रूप में तमिलनाडू "हिन्दी साहित्य अकादमी" के महासचिव "ईश्वर करुण" थे। विशिष्ट अतिथि के रूप में काव्य पाठ करने वालों में "अशोक मिज़ाज बद्र", सागर मध्यप्रदेश, दीनानाथ सुमित्र, अवधेश्वर प्रसाद सिंह, चाँद मुसाफिर, बाबा बैद्यनाथ झा, हरि नारायण सिंह हरि, सूर्य कुमार पासवान, अनिल कुमार झा, झारखंड, अवनीश त्रिपाठी, उत्तर प्रदेश, ज्ञानेन्द्र मोहन ज्ञान, उमाशंकर राव उरेन्दु, गोविंद राकेश, प्रकाश सेन प्रीतम, राजीव रंजन, सियाराम यादव मयंक, रवि कुमार रवि, दिनकर दीवाना, रंजित तिवारी, मुकेश कुमार सिन्हा, सुखनन्दन पासवान, विजय व्रत कंठ, अवधेश कुमार "आशुतोष", अशोक कुमार चौधरी, संदीप कपूर वक़्तनाम, विनोद कुमार हँसौड़ा, सच्चिदानंद किरण, शिव कुमार सुमन,सुधीर कुमार प्रोग्रामर, भागलपुर और शिव कुमार सुमन, खगड़िया ने देर रात तक अपनी बेहतरीन प्रस्तुति से श्रोताओं को बाँधे रखा।   

"कैलाश झा किंकर" विरचित ग़ज़ल संग्रह " दूरी न रहेगी" का लोकार्पण सागर, मध्यप्रदेश से पधारे अन्तर्राष्ट्रीय ग़ज़लकार "अशोक मिज़ाज बद्र" ने किया और पुस्तक की सराहना की।

सभी प्रतिभागी कवियों को सम्मान पत्र, अंगवस्त्र, डायरी और चाँदी की कलम से आदरपूर्वक सम्मानित किया गया। 25-08-2019 (रविवार) को तीसरे सत्र में कवयित्री सम्मेलन का उद्घाटन डॉ०अलका वर्मा, त्रिवेणीगंज ने किया। डॉ० "कविता परवाना" की अध्यक्षता में आयोजित कविसम्मेलन की मुख्य अतिथि डॉ० ज्योत्सना सक्सेना, राजस्थान मंचस्थ थी। विशिष्ट अतिथि के रूप में कविता पाठ करने वालों में पंखुड़ी सिन्हा, डॉ० भावना, डॉ० अर्चना पाठ्या, महाराष्ट्र, डॉ० प्रतिभा कुमारी पराशर, डॉ० अन्नपूर्णा श्रीवास्तव, डॉ० कल्याणी कुसुम स़िह, रंजना सिंह, रंजना सिंह "अंगवाणी", अर्चना चौधरी, चम्पा राय, संगीता चौरसिया, कुमारी स्मृति उर्फ कुमकुम, निभा उत्प्रेक्षा, विनीता साहा, रूबी  कुमारी, नीलम सयानी, नेहा नूपुर, अणिमा रानी आदि प्रमुख थीं। 

कवयित्री सत्र का मंच संचालन नेहा नूपुर, आरा और अणिमा रानी, खगड़िया को काफी सराहा गया। धन्यवाद ज्ञापन डॉ० विभा माधवी द्वारा किया गया।   उन्होंने कहा कि "शहीद प्रभुनारायण" और "जावेद" की इस पवित्र धरती खगड़िया में "जानकीवल्लभ शास्त्री महाधिवेशन" के  आज इस कार्यक्रम की वजह से पूरे देश की नजर खगड़िया की ओर है।"

आज खगड़िया में मिले, कवि लेखक विद्वान।
चमक खगड़िया की बढ़ी, पूरे हिंदुस्तान।।
एक साथ हैं मंच पर, सौ-सौ सुधी अदीब।
मिला बहुत संयोग से, ऐसा हमें नसीब।

चतुर्थ सत्र का उद्घाटन भागलपुर से पधारे लब्ध प्रतिष्ठ वयोवृद्ध लघुकथाकार "दिनेश बाबा" ने किया। डॉ० रामदेव प्रसाद शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित लघुकथा पाठ के मुख्य अतिथि थे कथाकार संजय कुमार अविनाश, लखीसराय और विशिष्ट अतिथि के रूप में माधवी चौधरी, विनोद कुमार विक्की, संजना तिवारी, स्मिताश्री, डॉ० राजेन्द्र प्रसाद, नीरज कुमार सिन्हा, बाबा बैद्यनाथ झा, राहुल शिवाय आदि ने अपनी-अपनी लघुकथाओं से श्रोताओं को प्रभावित कर दिया।

इस अवसर पर "संजय कुमार अविनाश" लिखित पुस्तक "पगडंडी टू हाईवे" का लोकार्पण डॉ० दिनेश बाबा और मंचस्थ अतिथियों ने सोल्लास सम्पन्न किया। इस सत्र के मंचसंचालक राहुल शिवाय, उपनिदेशक, कविता कोश ने किया।

पंचम सत्र की शुरूआत 'अवधेश कुमार आशुतोष' जी की सरस्वती वंदना से हुई। इस सत्र का उदघाटन जट-जटिन फिल्म के निदेशक "अनिल पतंग" ने दीप प्रज्वलित करके किया। "सूर्य कुमार पासवान" की अध्यक्षता में आयोजित इस अभिनय सत्र के मुख्य अतिथि थे बिहार के प्रसिद्ध फिल्म-नायक अमिय कश्यप। विशिष्ट अतिथि के रूप में सैकड़ों मंचि नाटकों के निदेशक साथी सुरेश सूर्य ।

'राजेश कुमार राही' के निर्देशन में होली बड स्कूल के छात्रों ने एकलव्य नाटक का मंचन किया। गुरु द्रोणाचार्य की भूमिका में प्रतीक राज, एकलव्य की भूमिका अंकित कुमार, एकलव्य की माँ की भूमिका में राहुल कुमार, युधिष्ठिर की भूमिका  में आदित्य सक्सेना, भीम की भूमिका में अवनीश कुमार, अर्जुन की भूमिका में कीर्ति नलिन, सहदेव की भूमिका में सत्यम, नकुल की भूमिका में अमन कुमार, दुर्योधन की भूमिका में सौरभ कुमार, दुश्शासन की भूमिका में रौशन कुमार के अलावे हंस, मोर, बत्तख, कुत्ता आदि की भूमिका में क्रमश: राम कुमार, युवराज, आदित्यमूर्ति और अमन ने दर्शकों का दिल जीत लिया।

इस सत्र में "अवधेश कुमार आशुतोष" लिखित किताब "झंकृत कर माँ ज्ञान को" का लोकार्पण रंग अभियान के सम्पादक "अनिल पतंग", "बाबा वैद्यनाथ झा" समेत सभी मंचस्थ अतिथियों ने आह्लाद पूर्वक किया। इस सत्र का मंच संचालन " कैलाश झा किंकर ने किया।

षष्ठ सत्र का उद्घाटन डॉ० नरेश कुमार विकल, समस्तीपुर ने किया। 'अवधेश्वर प्रसाद सिंह' की अध्यक्षता में आयोजित यह सम्मान समारोह खास था। स्वर्ण पत्र/रजत पत्र से कृति के लिए सम्मानित करने की परंपरा सिर्फ खगड़िया में है। कृति के लिए बीस और एक श्रेष्ठ कार्यकर्ता के लिए कुल इक्कीस स्वर्ण पत्र/रजत पत्र बनाए गये थे जिनमें "अशोक मिजाज़" की चुनिंदा ग़ज़लें के लिए अशोक मिजाज़ (सागर, म.प्र.) को रामवली परवाना स्वर्ण स्मृति सम्मान, दिन कटे हैं धूप चुनते के लिए अवनीश त्रिपाठी (सुलतानपुर, उ. प्र.) को हरिवंश राय बच्चन रजत स्मृति सम्मान ,चुप्पियों के बीच के लिए डॉ भावना (मुजफ्फरपुर, बिहार) को दुष्यंत कुमार रजत स्मृति सम्मान, जीवन की हर बात के लिए डॉ हरि फ़ैज़ाबादी (लखनऊ, उ.प्र.), को कवि रहीम रजत स्मृति सम्मान, महात्मा गांधी का शैक्षणिक चिंतन के लिए डॉ अर्चना पाठ्या (वर्धा, महाराष्ट्र) को लषण शर्मा रजत स्मृति सम्मान ,और कब तक के लिए ज्ञानेन्द्र मोहन 'ज्ञान" (शाहजहांपुर, उ. प्र.) को रमन रजत स्मृति सम्मान , रेगमाही के लिए ज्योत्सना सक्सेना (जयपुर, राजस्थान) को फणीश्वर नाथ रेणु रजत स्मृति सम्मान , जाने अनजाने न देख के लिए बाबा बैद्यनाथ झा (पूर्णिया, बिहार) को कृष्णदेव चौधरी रजत स्मृति सम्मान, अन्तर्मन की गूँज के लिए माधवी चौधरी (भागलपुर, बिहार) को महादेवी वर्मा रजत स्मृति सम्मान, हुआ कठिन अब सच-सच लिखना के लिए हरिनारायण सिंह 'हरि' (समस्तीपुर, बिहार) को रामधारी सिंह दिनकर रजत स्मृति सम्मान, हास्य व्यंग्य की भेलपुरी के लिए विनोद कुमार विक्की (महेशखूंट, बिहार) को नागार्जुन रजत स्मृति सम्मान, समय की पुकार हूँ मैं के लिए रथेन्द्र विष्णु 'नन्हें' (भागलपुर, बिहार) को आरसी प्रसाद सिंह रजत स्मृति सम्मान, दुनिया का खेल निराला है के लिए  सूर्य कुमार पासवान (मुंगेर, बिहार) को कमलाकांत प्रसाद सिंह कमल रजत स्मृति सम्मान, बूंद-बूंद में सागर के लिए नीरज कुमार सिन्हा (गोड्डा, झारखंड) को रामविलास रजत स्मृति सम्मान, ठिठके यादों का मौसम के लिए अनिल कुमार झा (देवघर, झारखंड) को जितेन्द्र कुमार रजत स्मृति सम्मान, एम्बीशन के लिए कविता परवाना (खगड़िया, बिहार) को  उपेन्द्र कुमार रजत स्मृति सम्मान, हारिल की लकड़ी के लिए दीनानाथ सुमित्र (बेगूसराय, बिहार) को सूर्यकांत त्रिपाठी निराला रजत स्मृति सम्मान, बँटवारा के लिए विनोद कुमार हँसौड़ा (दरभंगा) को विधान चंद्र राय रजत स्मृति सम्मान, मन मंदिर कान्हा बसे के लिए  अवधेश कुमार आशुतोष (खगड़िया, बिहार) को  विश्वानंद रजत स्मृति सम्मान तथा, शब्दों का गुलदस्ता लाया हूँ के लिए अवधेश्वर प्रसाद सिंह (रोसड़ा, बिहार) को माहताब अली रजत स्मृति सम्मान से सम्मानित किया गया। श्रेष्ठ कार्यकर्ता के लिए निर्धारित द्रौपदी देवी रजत स्मृति सम्मान से सचिव राहुल शिवाय को सम्मानित किया गया।

मुख्य अतिथि के रूप में मंचस्थ प्रसिद्ध ग़ज़ल-गो अनिरुद्ध सिन्हा और मंचस्थ अतिथियों के द्वारा सभी साहित्यकारों को स्वर्ण पत्र/रजत-पत्र, सम्मान पत्र से सम्मानित किया गया। डॉ० हरि फ़ैज़ाबादी विरचित "माता का उपहार " का लोकार्पण मंचस्थ अतिथियों ने किया। मंचसंचालक का दायित्व कैलाश झा किंकर, सम्पादक "कौशिकी" ने निभाया।

 साँस्कृतिक सत्र का उद्घाटन दर्जनों साहित्यिक विदेश यात्राएँ कर चुके प्रख्यात शायर सुशील साहिल, गोड्डा, झारखंड ने किया। अशोक कुमार चौधरी की अध्यक्षता में आयोजित इस सत्र के मुख्य अतिथि के रूप में पं० भीम  शंकर चौधरी, निदेशक, माँ राजकुमारी संगीत महाविद्यालय, खगड़िया मंचस्थ थे। विशिष्ट अतिथि डा० राकेश प्रसाद, वीरेन्द्र कुमार दीक्षित, रमन आनन्द, मणि शंकर, राहुल दीवाना आदि मंचस्थ थे। सबकी प्रस्तुति सराही गयी। कैलाश झा किंकर ने " हम्मर बेटा छै बकलेल " की अपनी प्रस्तुति से श्रोताओं और दर्शकों का खूब स्नेह पाया। वीणा प्राईमरी एकेडमी पिपरा की छात्राएँ पलक पल्लवी, श्वेता, पार्वती, प्राची, आरती, मोनी, साक्षी और निक्की ने वन्दे मातरम, राजस्थानी लोक नृत्य ढोलना, घर आ जा परदेशी तेरा देश बुलाए रे की प्रस्तुति से श्रोताओं को चमत्कृत कर दिया। ऐश्वर्या राय, मोनिका रानी, मनोज कुमार विषैला और अभिषेक कुमार की प्रस्तुति भी लाजवाब थी। इस अवसर पर चम्मन टोला से फौदार यादव और साथी के द्वारा लोक गीत "अहीरन" की प्रस्तुति देर रात तक होती रही।

इस अवसर पर अशोक कुमार चौधरी विरचित "आरति आली कौन" का लोकार्पण अशोक मिजाज बद्र, ज्योत्सना सक्सेना, साथी सुरेश, प्रकाश सेन प्रीतम आदि ने किया। इस सत्र का सफल मंच संचालन वीरेंद्र कुमार दीक्षित ने किया।

उपस्थित श्रोताओं, दर्शकों, कवियों, पत्रकारों का धन्यवाद ज्ञापन करते हुए महासचिव "कैलाश झा किंकर" ने कहा कि इस आयोजन को सफल करने में साहित्य सेवी ई० रमेश कुमार, ई० धर्मेंद्र कुमार, बड़े लाल यादव, राजीव नयन सारथी, शशि शेखर, रोहित कुमार, अशोक कुमार चौधरी, कविता परवाना, राहुल शिवाय और रामदेव पंडित राजा के साथ-साथ कौशिकी के ह्वाटस्एप ग्रूप का बहुत बड़ा योगदान रहा, सभी के प्रति आभार। इस महाधिवेशन की खास बात यह रही कि दोनों दिन डॉ० विभा माधवी की देख रेख में पुस्तक विक्री केन्द्र खुला हुआ था। बहुत सारी किताबें बिकीं। विदाई के वक़्त बिकी हुई किताबों की राशि सम्बन्धित साहित्यकारों को दे दी गयी। लगभग सात हजार मूल्य की जो बची हुई किताबें थीं, सब राजमाता माधुरी देवी टीचर ट्रेनिंग कॉलेज आवासबोर्ड, रांको, खगड़िया ने अपने पुस्तकालय के लिए खरीद ली।
....
आलेख - कैलाश झा किंकर
छायाचित्र - हिंदी भाषा साहित्य परिषद, खगड़िया
प्रतिक्रिया हेतु ईमेल - editorbejodindia@yahoo.com








    

Sunday, 25 August 2019

"कृष्णा किल्लोल" - संगीत शिक्षायतन द्वारा पटना में जन्माष्टमी के अवसर पर 23.8.2019 को नृत्य का कार्यक्रम प्रस्तुत

कृष्ण के अनेक रूप और नृत्य मुद्राओं की छटा

(Small News/ 1.शम्भू अगेही सम्मान- यहाँ क्लिक कीजिए / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch )


कृष्ण के विविध रूप हैं। जहाँ एक ओर वो राधा और गोपियों के साथ रास नचाते नजर आते हैं वहीं कालिया मर्दन करते भी दिखते हैं। इन सभी घटनाओं का आध्यात्मिक महत्व तो हैं ही साथ ही नृत्य-संगीत में भी ये घटनाएँ बहुविध प्रकार से अभिव्यक्ति की सामग्री के रूप में अत्यंत लोकप्रिय हैं।

कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर संगीत शिक्षा के प्रांगण में कृष्णा किलोल कार्यक्रम भक्ति भाव और सांस्कृतिक उत्सव को आयोजित कर मनाया गया नन्हे मुन्ने कलाकार कृष्ण रूप सज्जा में कृष्ण और गोपियों के रूप में नजर आए कार्यक्रम में शिक्षायतन पटना सिटी तथा कंकड़बाग केंद्र के कलाकारों द्वारा एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां होती रही। गायक कलाकरों द्वारा कुछ लोकप्रिय गानों पर शिक्षायतन के कलाकार अपनी प्रस्तुतियां देते रहें और तालियां बजती रही। इतना ही नहीं कृष्ण के रासलीला और कालिया मर्दन की लीला को नृत्य नाटिका के रूप में प्रस्तुत किया गया। जिसे देख दर्शक कृष्ण भक्ति में डूब गए।

जयदेव की रचना अष्टपदी में वर्णित राधा - कृष्ण के मिलन प्रसंग को अदिति और स्नेहा के क्लासिकल नृत्य ने दर्शकों का मन जीत लिया। कथक नृत्यांगना यामिनी कथक और नेटवर्क कृष्ण की लीला को नृत्य कर मनमोहक रूप में प्रस्तुत किया साथ ही कृष्ण मिलन जिसमें कृष्ण का राधा से मिलन, कृष्ण का यशोदा से मिलन, और कृष्ण का यशोदा से मिलन को दिखाया।

कृष्णरूप सज्जा में रूद्र राज को बाल कृष्णा किलोल सम्मान से सम्मानित किया गया। भाग लेने वाले कलाकार अनुष्का, पूजा चौधरी, खुशी, हर्षिता,सुहानी, आरोही, विष्णु थे। सांस्कृतिक अवसर पर संस्था की सचिव रेखा शर्मा, सम्मानित अथिति अवधेश कुमार झा (लेखक व कवि), निर्देशिका यामिनी शर्मा, संस्कार भारती पटना इकाई के प्रवीण कुमार, नृत्य गुरु रवी मिश्रा आदि गणमान्य लोग उपस्थित थे।

यह कार्यक्रम संगीत शिक्षायतन के संगीत शिक्षायतन, काली मंदिर रोड, कंकरबाग, पटना के प्रांगण में सम्पन्न हुआ
.....
समाचार स्रोत - यामिनी
प्रेषण सहयोग - मधुप चंद्र शर्मा









Saturday, 24 August 2019

देखना फिर से / लक्ष्मीकांत मुकुल की दो कविताएँ

देखना फिर से शुरू किया दुनिया को 

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)



उस भरी दुपहरी में
जब गया था घास काटने नदी के कछार पर
तुम भी आई थी अपनी बकरियों के साथ
संकोच के घने कुहरे का आवरण लिए
अनजान, अपरिचित, अनदेखा
कैसे बंधता गया तेरी मोहपाश में

जब तुमने कहा कि
तुम्हें तैरना पसंद है
मुझे अच्छी लगने लगी नदी की धार
पूछें डुलाती मछलियाँ
बालू, कंकडों, कीचड़ से भरा किनारा
जब तुमने कहा कि
तुम्हें उड़ना पसंद है नील गगन में पतंग सरीखी
मुझे अच्छी लगने लगी आकाश में उड़ती पंछियों की कतार
जब तुमने कहा कि
तुम्हें नीम का दातून पसंद है
मुझे मीठी लगने लगी उसकी पत्तियां, निबौरियां

जब तुमने कहा कि
तुम्हें चुल्लू से नहीं, दोना से
पानी पीना पसंद है
मुझे अच्छी लगने लगी
कुदरत से सज्जित यह कायनात
जब तुमने कहा कि
तुम्हें बारिश में भींगना पसंद है
मुझे अच्छी लगने लगी
जुलाई -अगस्त की झमझम बारिश, जनवरी की तुषार 

जब तुमने कहा की यह बगीचा
बाढ़ के दिनों में नाव की तरह लगता है
मुझे अच्छी लगने लगी
अमरूद की महक, बेर की खटास
जब तुमने कहा कि
तुम्हें पसंद है खाना तेनी का भात
भतुए की तरकारी, बथुए की साग
मुझे अचानक अच्छी लगने लगीं फसलें
जिसे उपजाते हैं श्रमजीवी
जिनके पसीने से सींचती है पृथ्वी

तुम्हारे हर पसंद का रंग चढ़ता गया अंतस में
तुम्हारी हर चाल, हर थिरकन के साथ
डूबते - खोते - सहेजने लगी जीवन की राह
मकड़तेना के तना की छाल पर
हंसिया की नोक से गोदता गया तेरा नाम, मुकाम

प्रणय के उस उद्दात्त क्षणों में कैसे हुए थे हम बाहुपाश
आलिंगन, स्पर्श, साँसों की गर्म धौकनी के बीच
मदहोशी के संवेगों में खो गये थे
अपनी उपस्थिति का एहसास
हम जुड़ गए थे एक दूजे में, एकाकार
पूरी पवित्रता से, संसार की नज़रों में निरपेक्ष

मनुष्यता का विरोधी रहा होगा वह हमारा अज्ञात पुरखा
जिसने काक जोड़ी को अंग-प्रत्यंग से लिपटे
देखे जाने को माना था अपशकुन का संदेश
जबकि उसके दो चोंच चार पंख आपस में गुंथकर
मादक लय में थाप देते सृजित करते हैं जीवन के आदिम राग
 पूछता हूँ क्या हुआ था उस दिन

जब हम मिले थे पहली बार
अंतरिक्ष से टपक कर आये धरती पर
किसी इंद्र द्वारा शापित स्वर्ग के बाशिंदे की तरह नहीं
बगलगीर गाँव की निर्वासिनी का मिला था साथ
पूछता हूँ कल-कल करती नदी के बहाव से
हवा में उत्तेजित खडखड़ाते ताड़ के पत्तों से
मेड़ के किनारे छिपे, फुर्र से उड़ने वाले ‘घाघर’ से
दूर तक सन्-सन् कर सन्देश ले जाती पवन-वेग से
सबका भार उठाती धरती से
ऊपर राख के रंग का चादर फैलाए आसमान से

प्रश्नोत्तर में खिलखिलाहट
खिलखिलाहटों से भर जाती हैं प्रतिध्वनियाँ
यही ध्वनि उठी थी मेरे अंतर्मन में
जब तुमने मेरे टूटे चप्पल में बाँधी थी सींक की धाग
देखना फिर से शुरू किया मैंने इस दुनिया को
कि यह है कितनी हस्बेमामूल, कितनी मुक़द्दस.
.......
(हस्बेमामूल = हमेशा की तरह, मुकद्दस = पवित्र) 


गूंगी जहाज

सर्दियों की सुबह में 
जब साफ़ रहता था आसमान 
हम कागज़ या पत्तों का जहाज बनाकर 
उछालते थे हवा में 
तभी दिखता था पश्चिमाकाश में 
लोटा जैसा चमकता हुआ 
कौतूहल जैसी दिखती थी वह गूंगी जहाज 

बचपन में खेलते हुए हम सोचा करते
कहा जाती है परदेशी चिड़ियों की तरह उड़ती हुई
किधर होगा बया सरीखा उसका घोसला 
क्या कबूतर की तरह कलाबाजियाँ करते 
दाना चुगने उतरती होगी वह खेतों में 
कि बाज की तरह झपट्टा मार फांसती होगी शिकार 

भोरहरिया का उजास पसरा है धरती पर 
तो भी सूर्य की किरणें छू रही हैं उसे 
उस चमकीले खिलौने को 
जो बढ़ रहा है ठीक हमारे सिर के ऊपर 
बनाता हुआ पतले बादलों की राह
उभरती घनी लकीरें बढती जाती है 
उसके साथ 
जैसे मकड़ियाँ आगे बढती हुई 
छोडती जाती है धागे से जालीदार घेरा 
शहतूत की पत्तियाँ चूसते कीट 
अपनी लार ग्रंथियों से छोड़ते जाते हैं
रेशम के धागे 

चमकते आकाशीय खिलौने की तरह 
गूंगी जहाज पश्चिम के सिवान से यात्रा करती हुई
छिप जाती है पूरब बरगद की फुनगियों में 
बेआवाज तय करती हुई अपनी यात्रायें 
पूरब से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण निश्चित किनारों पर 
पीछे -पीछे छोड़ती हुई 
काले -उजले बादलों की अनगढ़ पगडंडियां.
....
नोट – हमारे भोजपुरांचल में ऊंचाई पर उडता बेआवाज व गूंगा जहाज को लोगों द्वारा स्त्रीवाचक सूचक शब्द “गूंगी जहाज” कहा जाता है. इसलिए कवि ने पुलिंग के स्थान पर स्त्रीलिंग शब्द का प्रयोग किया है.
.......

कवि-  लक्ष्मीकान्त मुकुल
प्रतिक्रिया हेतु  ईमेल -  editorbejodindia@yahoo.com
परिचय
लक्ष्मीकांत मुकुल
जन्म – 08 जनवरी 1973
शिक्षा – विधि स्नातक
संप्रति - स्वतंत्र लेखन / सामाजिक कार्य
कवितायें एवं आलेख विभिन्न पत्र – पत्रिकाओं में प्रकाशित .
पुष्पांजलि प्रकाशन ,दिल्ली से कविता संकलन “लाल चोंच वाले पंछी’’ प्रकाशित.
संपर्क : ग्राम – मैरा, पोस्ट – सैसड, भाया – धनसोई, जिला – रोहतास (बिहार) – 802117
मो0 – 9162393009
ईमेल – kvimukul12111@gmail.com

 जाबिर हुसैन,  प्रख्यात साहित्यकार और पूर्व सभापति, बिहार विधान परिषद के साथ 

अक्तूबर, 2018  में साहित्यकारगण  (बायें सए) ब्रजकिशोर दूबे, हेमन्त दास'हिम', लक्ष्मीकांत मुकुल और  डॉ. विजय प्रकाश 

Wednesday, 21 August 2019

निर्माण कला मंच द्वारा नाटक 'बिदेसिया' 20.8.2019 को पटना में मंचित

 औरत की दुश्मन औरत ही क्यों ?

(मुख्य पेज पर जायें- bejodindia.blogspot.com / हर 12 घंटे पर देखते रहें - FB+ Watch Bejod India)



संजय उपाध्याय द्वारा निर्देशित और भिखारी ठाकुर द्वारा लिखित बहुचर्चित नाटक 'बिदेशिया' का मंचन पटना के प्रेमचंद रंगशाला में देखने और देश के यशस्वी रंगकर्मी संजय उपाध्याय से मिलने का आज 20.8.20119 को अवसर मिला। कलाकारों का जीवंत अभिनय, जानदार संगीत तथा प्रकाश व्यवस्था ने हृदय को छू लिया। कथानक का ऐसा आकर्षण कि पूरा हाल खचाखच भरा हुआ था यहां तक कि सैंकड़ों दर्शक खड़े थे और सीढियों पर बैठ गए थे। 


'बिदेसिया' एक संगीतमय नाटक है भोजपुरी के शेक्सपियर कहे जाने वाले भिखारी ठाकुर का। इसमें दो मत नहीं है कि रोजी और रोजगार के लिए पलायन हमारे राज्य बिहार में सदियों से होता आ रहा है। देश और दुनिया के कई हिस्सों में जाकर अपनी मेहनत से  पहचान भी बनाते रहे हैं। लेकिन सच यह भी है कि यह पलायन हमेशा सुख-शांति नहीं लाता है।, बल्कि जीवन को दो राहों पर ला  कर खड़ा कर देता है। और फिर शुरू हो जाती है दुःख और दर्द की अंतहीन कहानी। अपनी माटी से दूर होने से लेकर जीवन साथी से विलग होने की त्रासदी पुरुष से अधिक नारी को झेलनी पड़ती है। टीस, विरह और प्रेम वियोग के विहंगम दृश्य को बहुत ही कारुणिक संवाद  गीत. और संगीत के माध्यम से रंगमंच पर साकार रूप दिया गया है, जो नाटक से जुड़े सभी पात्रों के लिए एक कठिन उपलब्धि है,। यह प्रस्तुति "निर्माण कला मंच" के द्वारा और संजय उपाध्याय के निर्देशन में पूरी तरह सफल रही है।

इस भोजपुरी नाटक में एक ऐसे युवक पर कहानी केंद्रित की गई है जो शादी के कुछ दिनों के बाद ही कोलकाता शहर घूमने और रोजगार की खातिर पलायन कर जाता है। वह शहर खूब भाता है उसे।। रोजगार पाने के क्रम में, वह भी बाजार का एक हिस्सा बन जाता है। कोई विदेशिया कब तक शहर की रंगीनियों से खुद को दूर रख सकता है भला? वह  विवाहित युवक भी इन विसंगतियों से खुद को बचा नहीं पाता है और वह वहां एक दूसरी महिला के साथ, अपना एक और घर बसा लेता है।

कुछ सालों के बाद वह युवक जब अपने गाँव वापस आता है तो घर में पहली पत्नी कोहराम मचाने लगती है। इस बीच कोलकाता वाली पत्नी भी वापस घर में पहुंच जाती है। कुछ नाराजगी और ना-नुकुर के बाद दोनों पत्नी. साथ साथ रहने को तैयार हो जाती हैं। यह रोचक अंत लेखक के सकारात्मक नजरिए को रेखांकित करती है।

लेकिन, हम इक्कीसवीं सदी में पहुंचने के बाद भी सौतन रखने के लिए तैयार हैं क्या? दूसरी शादी करने में पुरुष या नारी  जिसकी भी अहम भूमिका रही हो, बात अंततः घर की नारी के फैसले पर ही टिकी रहती है। और एक औरत की उपेक्षा या तिरस्कार एक औरत ही करती है। आखिर वह औरत यह क्यों नहीं समझती कि यदि उसके साथ भी  उपेक्षा की जाए तो कैसा लगेगा? आखिर और अंततः बात प्रेम की हो, दहेज उत्पीड़न की हो, बाल विवाह की हो, या फिर "विदेशिया" कहानी की सौतन की बात हो, हमारे सभ्य समाज में भी औरत की दुश्मन औरत ही क्यों होती है?

मुझे भिखारी ठाकुर की कालजयी कृति "विदेशिया" इसलिए भी बहुत पसंद आई कि मेरे विचारों के अनुरूप था इसका कथानक। वर्षों पहले लिखा गया यह नाटक तमाम संकीर्णताओं और ढकोसलापन से दूर है। और सबसे बड़ी बात कि यह आज भी उतना ही प्रासंगिक।है।
.....

आलेख - सिद्धेश्वर
छायाचित्र - बेजोड़ इंडिया ब्यूरो
लेखक का ईमेल - sidheshwarpoet.art@gmail.com)
प्रतिक्रिया हेतु ईमेल -editorbejodindia@yahoo.com