**New post** on See photo+ page

बिहार, भारत की कला, संस्कृति और साहित्य.......Art, Culture and Literature of Bihar, India ..... E-mail: editorbejodindia@yahoo.com / अपनी सामग्री को ब्लॉग से डाउनलोड कर सुरक्षित कर लें.

# DAILY QUOTE # -"हर भले आदमी की एक रेल होती है/ जो माँ के घर तक जाती है/ सीटी बजाती हुई / धुआँ उड़ाती हुई"/ Every good man has a rail / Which goes to his mother / Blowing wistles / Making smokes [– आलोक धन्वा, विख्यात कवि की एक पूर्ण कविता / A full poem by Alok Dhanwa, Renowned poet]

यदि कोई पोस्ट नहीं दिख रहा हो तो नीचे "Current Page" पर क्लिक कीजिए. If no post is visible then click on Current page given below. // Mistakes in the post is usually corrected in ten hours once it is loaded.

Tuesday, 12 September 2017

सांस्कृतिक परिक्रमा / अंक-13.9.2017 (Cultural Roundup by Bihari Dhamaka)

 Blog pageview last count- 31819 (Check the latelst figure on computer or web version of 4G mobile)
दिल्ली,  मुंगेर,  बेगुसराय, दरभंगा, भागलपुर, पटना तथा अन्य शहरों के कार्यक्रम
नोट- सांस्कृति परिक्रमा में अपने चित्रों को शामिल करवाने हेतु बिहारी धमाका ब्लॉग  में  सबसे  ऊपर  की  ओर  लिखे  नंबर  पर  व्हाट्सएप्प से अपने कार्यक्रमों के चित्र संक्षिप्त विवरण के साथ भेजें. ईमेल  से  भी  दे  सकते  हैं  आईडी है-  hemantdas_2001@yahoo.co0m

(ऊपर)  मिथिलांगन, दिल्ली का नाटक 'राजा सलहेस. और फोटो और रिपोर्ट देखें  https://biharidhamaka.blogspot.in/2017/09/mithilangan-delhi-played-raja-salhes-on.html

(ऊपर में) बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन,पटना -हृषीकेश पाठक का सम्मान10 सितम्बर2017 को बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन,पटना के अध्यक्ष डॉ.अनिल सुलभ और उच्च न्यायालय,पटना के पूर्व न्यायमूर्ति राजेन्द्र प्रसाद द्वारा उनके साहित्यिक अवदानों के लिए पं. हंस कुमार तिवारी सम्मान से मुझे सम्मानित किया गया। 


दूसरा शनिवार संस्था की कवी-गोष्ठी गाँधी मैदान, पटना में 9.9.2017 को संपन्न हुई. इसमें पहले सत्र में कविता क्यों? विषय पर सार्थक बहस हुई जिसका सञ्चालन नरेन्द्र कुमार ने किया.. दूसरे सत्र में सबने अपनी एक-एक कविता का पाठ किया.




बिहार हिंदी साहित्य सम्मेलन,पटना 

मिथिलांगन,दिल्ली

मिथिलांगन,दिल्ली

खगडिया के कैलाश किंकर सम्मनित हुए



अजित आजाद, मैथिली कवि,दरभंगा


मिथिलांगन,दिल्ली

खगडिया के कैलाश किंकर सम्मानित होते हुए









कवि धंन्श्याम- आज सृजन साहित्य, मुंगेर के तत्वावधान में स्व.अशर्फी झा स्मृति-सम्मान समारोह, " मृदुला झा का साहित्य संसार " पुस्तक का लोकार्पण एवं कवि सम्मेलन नगर भवन, मुंगेर के सभागार में आयोजित हुआ.
आयोजन की अध्यक्षता डॉ.शिववंश पाण्डेय, राष्ट्रभाषा परिषद, पटना के पूर्व उपाध्यक्ष एवं निदेशक तथा संचालन श्री शिवनन्दन सलिल ने किया.डा. कौशलेन्द्र पाण्डेय, लखनऊ मुख्य अतिथि थे.
इस अवसर पर अनिरुद्ध सिन्हा,सुशील साहिल, कुमार विजय गुप्त, कैलाश झा किंकर, विकास कुमार, सुधीर कुमार सिंह प्रोग्रामर, विजेता मुदगलपुरी,हीरा प्रसाद "हरेन्द्र",यदुनन्दन झा द्विज,शिवरानी संडवार, डॉ.मृदुला झा,गुरुदयाल त्रिविक्रम,शिवनन्दन सलिल और मैंने काव्य पाठ किया.( घनश्याम द्वारा प्रेषित)




(ऊपर)गोबिंद निहलानी, पी.एन.सिंह एवं के.के. मिश्र (डीडी- बिहारके केंद्र निदेशक एवं कार्यक्रम अधिशाषी)



Sujit Verma-. Pre-order booking of my novel "Walking On The Green" on Amazon.in is only till 15th September. Kindly book and ensure your copy.... This is my second literatary work of this year. Sincere regards.(Sent by Sujit Verma)










Add caption

अभियान सांस्कृतिक मंच, पटना द्वारा माध्यमिक शिक्षक संघ भवन, जमाल रोड में आयोजित रामशरण शर्मा स्मृति आयोजन में ' भारत की सामाजिक संरचना और सामन्तवाद'





मिथिलंगन परिधान प्रदर्शनी (प्राभारी- बिनीता मल्लिक) 

(ऊपर)बेगुसरय

Add caption




देहरादून में सम्मानित होते पटना के शायर समीर परिमल 








राजकुमार भारती आयकर पटना के झ्णण्डोत्तल्न कार्यक्रम में 







भागवत अनिमेष कृत नाटक'पप्पू पास हो गया' के उच्चाधिकारी दर्शक गण


(ऊपर) मैथिली नाट्यलेखन कार्यशाला म' मैथि भाषा क' शेक्सपियर श्री महेंदर मलंगिया आ' श्री कुणाल झा  नाटककार आ' वरिष्ठ रंगकर्मी ऋषि वशिष्ठ  , पवन झा  सब सँगे काज क'रैत बढ़ म'न लैग रहल अछि




कालिदास रंगालय में हाल ही में मानचित नाटक  के कलाकार 

(बाएं से) सजीव श्रीवास्तव, अवधेश प्रात और संजय कु. कुंदन आशुतोष अभिज्ञ के उत्कृष्ट एकल आभिनय को देखते हुए. नाटक चूमिल की कविता 'पटकथ' पर आधिरित था.

हिंदुस्तान के अज़ीम शायर  सजय कु.कुंदन,और उनकी पत्नी.प्रतिभा वर्मा दोनो उत्तम साहित्यकार हैं.. ब्लोगर हेमन्त 'हिम' को इनके घर पर जाकर मिलाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ.